रांची, राज्य ब्यूरो। Jharkhand Corrupt IAS Pooja Singhal निलंबित आइएएस अधिकारी पूजा सिंघल के खिलाफ मनी लांड्रिंग के मामले में अनुसंधान कर रहा ईडी अगले हफ्ते चार्टर्ड अकाउंटेंट सुमन कुमार व आइएएस पूजा सिंघल पर चार्जशीट करने जा रहा है। जेल में दोनों के 60 दिन पूरे होने वाले हैं। नियमत: 60 दिनों के भीतर चार्जशीट करने की बाध्यता है। ईडी ने दोनों के खिलाफ पर्याप्त साक्ष्य और सबूत जुटा लिया है। ईडी कार्यालय में इसकी तैयारियां चल रही हैं। पूजा सिंघल झारखंड की वरिष्ठ आइएएस अफसर है। यहां सरकार में उसकी तूती बोलती थी। सरकार किसी की भी हो, वह सबको अपनी अंगुली पर नचाती थी। कहा जा रहा कि ईडी के हत्थे चढ़ी पूजा की तमाम काली करतूतों के साक्ष्य मिल चुके हैं। चार्जशीट दाखिल होने के बाद इन करतूतों का खुलासा भी होगा।

पूजा के पति अभिषेक झा ने ही उपलब्ध कराएं साक्ष्य

पूजा सिंघल के पति अभिषेक झा से ईडी को कई महत्वपूर्ण सबूत मिल चुके हैं। पल्स अस्पताल व पल्स डाग्नोस्टिक में करोड़ों के निवेश से संबंधित साक्ष्य व सबूत ईडी को मिले हैं, जिसे वह अपनी चार्जशीट में संलग्न करेगा। खूंटी के बहुचर्चित मनरेगा घोटाले में मनी लांड्रिंग के तहत अनुसंधान कर रही ईडी की टीम ने छह मई को आइएएस पूजा सिंघल व उनके सहयोगियों से जुड़े 20 से अधिक ठिकानों पर छापेमारी की थी। इस छापेमारी में पूजा सिंघल के चार्टर्ड अकाउंटेंट सुमन कुमार के आवास से 19.31 करोड़ रुपयों की बरामदगी हुई थी। अन्य सभी ठिकानों से भारी मात्रा में दस्तावेज मिले थे।

न्यायिक हिरासत में हैं पूजा सिंघल व सुमन कुमार

इसके बाद ईडी ने सात मई को पूजा सिंघल के चार्टर्ड अकाउंटेंट सुमन कुमार को गिरफ्तार किया था, उसकी निशानदेही पर व पूछताछ में मिले तथ्यों के आधार पर पूजा सिंघल को भी समन कर ईडी ने पूछताछ की और उन्हें 11 मई को गिरफ्तार किया। इसके बाद से ही दोनों ही न्यायिक हिरासत में हैं, जिनके विरुद्ध सबूत, गवाह व दस्तावेज जुटाए गए हैं।

अब एसीबी ने भी शुरू की मामले की जांच

झारखंड पुलिस की भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) ने खूंटी के मनरेगा घोटाले की जांच शुरू कर दी है। मुख्यमंत्री के निर्देश पर मंत्रिमंडल सचिवालय एवं निगरानी विभाग ने एसीबी को मनरेगा घोटाले में पूजा सिंघल की भूमिका के साथ-साथ पूजा सिंघल को बचाने वालाें की भूमिका की भी जांच का आदेश दिया है, जिसके बाद से ईडी ने मनरेगा घोटाले की फाइल एक बार फिर खोल दी है।

Edited By: M Ekhlaque