रांची, राज्य ब्यूरो। Jharkhand News, Hemant Soren राज्य सरकार प्रवासी मजदूरों के निधन पर उनके आश्रितों को सहायता राशि उपलब्ध कराएगी। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के निर्देश पर श्रम, नियोजन एवं प्रशिक्षण विभाग इसका प्रस्ताव तैयार कर रहा है। प्रवासी मजदूरों के निधन पर आश्रितों को डेढ़ लाख रुपये तक सहायता राशि मिल सकती है।

प्रवासी मजदूरों के दूसरे राज्यों में निधन होने पर मुआवजा देने का प्रविधान पहले से है। इसके तहत निबंधित प्रवासी मजदूरों को डेढ़ लाख तथा बिना निबंधित प्रवासी मजदूरों को एक लाख रुपये सहायता राशि देने का प्रविधान है। किसी दुर्घटना में दिव्यांगता की स्थिति में क्रमश: 75 हजार तथा 50 हजार रुपये दिए जाते हैं। बता दें कि मुख्यमंत्री ने प्रवासी मजदूरों के निधन पर आश्रितों को सहायता राशि देने के लिए नीति बनाने के निर्देश विभाग को दिए हैं। उन्होंने श्रमिकों की सहायता के लिए राज्य सरकारों के साथ समन्वय बनाने को कहा है।

किसानों को मुआवजा देंगे : हेमंत सोरेन

राज्य सरकार ओला वृष्टि की वजह से हुए फसलों के नुकसान की भरपाई करेगी। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने आदेश दिया है कि सारे जिला उपायुक्त फसलों के नुकसान का आकलन कर एक सप्ताह के भीतर किसानों को मुआवजा देने की दिशा में कार्रवाई करें। उन्होंने कहा कि इस संबंध में जरूरी आदेश निर्गत किए जा रहे हैं। गौरतलब है कि ओला गिरने की वजह से राज्य में किसानों की फसलों का भारी नुकसान होने की खबरें आई है। इसका संज्ञान लेते हुए मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश जारी किया है।

छह माह के लिए हुई 111 अन्य पारा मेडिकल कर्मियों की नियुक्ति

राज्य सरकार कोरोना मरीजों को आवश्यक चिकित्सीय सुविधा उपलब्ध कराने के लिए अल्प समय के लिए चिकित्सकों एवं पारा मेडिकल कर्मियों की नियुक्ति संविदा पर कर रही है। इस क्रम में 111 पारा मेडिकल कर्मियों की नियुक्ति की गई है। इनमें एएनएम, नर्स, लैब तकनीशियन, फार्मासिस्ट आदि शामिल हैं। इन सभी की नियुक्ति 10 से 16 हजार रुपये मासिक मानदेय पर हुई है। राष्ट्रीय स्वास्थ्य अभियान के तहत हुई हुई इस नियुक्ति की जिम्मेदारी गैर सरकारी संस्थान सिटीजन फाउंडेशन को दी गई थी। बता दें कि इससे पहले 100 एएनएम एवं ए ग्रेड नर्सों की नियुक्ति छह माह के लिए की गई थी।