रांची, जासं। लॉकडाउन के बीच भारतीय मजदूर संघ ने केंद्र और राज्यों की सरकारों की श्रम कानूनों के साथ छेड़छाड़ एवं श्रमिकों के मुद्दों पर आरपार की लड़ाई की घोषणा कर दी है। इसके लिए मजदूर संघ के द्वारा चरणबद्ध आंदोलन किया जाएगा। शनिवार से इसकी शुरुआत हो रही है। पूरे संघर्ष को संघ के द्वारा चार चरणों में बांटा गया है, जो 30 मई से शुरू होकर 30 जून तक चलेगा।

इसमें यूनियन लेवल की बैठक और जन संपर्क से लेकर सांसदों से मिलने तक का अभियान शामिल है। भारतीय मजदूर संघ ने कई अलग-अलग सेक्टर और इंडस्ट्रीज में काम कर रहे मजदूर संघ के साथी संगठनों से भी मंत्रणा की है। इस आंदोलन के लिए 5 बड़े मुद्दे चुने हैं। इसमें प्रवासी मजदूरों की दुर्दशा, बेरोजगारी की भयावह स्थिति, वेतन भत्तों काे देने से मना करना, श्रम कानूनों में बदलाव के चलते मजदूरों के अधिकारों में कमी और 12 घंटे तक की शिफ्ट का फरमान और निरंकुश तरीके से निजीकरण करना शामिल है।

Posted By: Sujeet Kumar Suman

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस