राज्य ब्यूरो, रांची। झारखंड के 46 अपराधी मध्य प्रदेश पुलिस के लिए वांटेड हैं। इनका पकड़ा जाना जरूरी है, क्योंकि नवंबर महीने में मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनाव संभावित हैं। ये अपराधी मध्य प्रदेश में विधि-व्यवस्था का संकट उत्पन्न कर सकते हैं। इन्हीं सभी आशंकाओं को देखते हुए मध्य प्रदेश के डीजीपी ऋषि कुमार शुक्ला ने झारखंड के डीजीपी डीके पांडेय से पत्राचार किया है।

उक्त पत्र का हवाला देते हुए डीजीपी डीके पांडेय ने सीआइडी मुख्यालय को कार्रवाई का आदेश दिया, जिसके बाद मंगलवार को सभी जिलों के एसएसपी-एसपी को पत्राचार किया गया है। सीआइडी मुख्यालय ने सभी जिलों को भेजे पत्र में सभी 46 अपराधियों की सूची को संलग्न किया है। कहा गया है कि इन अपराधियों पर कार्रवाई करें। जिन 46 अपराधियों की सूची मध्य प्रदेश पुलिस ने भेजी है, उनमें स्थाई वारंट के 38, गिरफ्तारी वारंट के 7 व फरार वांछित अपराधी एक है। ये अपराधी मादक द्रव्य अधिनियम, जानलेवा हमला, जालसाजी, साइबर क्राइम व पशु क्रूरता अधिनियम के अभियुक्त हैं।

सीआइडी भोपाल के आइजी को बनाया गया है नोडल अधिकारी

अपराधियों की गिरफ्तारी में समन्वय स्थापित करने के लिए मध्य प्रदेश पुलिस ने सीआइडी भोपाल के आइजी (प्रशासन) डी. निवास वर्मा को बनाया है। सीआइडी झारखंड ने सभी जिलों को यह आदेश दिया है कि किसी अपराधी के नाम व पते के बारे में विस्तृत जानकारी लेनी हो तो वे आइजी डी. निवास वर्मा से संपर्क कर सकते हैं। इसके लिए उनका नंबर भी सभी जिलों को उपलब्ध करा दिया गया है।

अपराधी, जिनकी भेजी गई है सूची

उदय सिंह, प्रदीप कुमार सिंह राजपूत, धीरज कुमार सिंह, धीरू सिंह, पप्पू कुमार राजपूत, लालजी यादव, लक्ष्मण मंडल, कृष्णा मंडल, सत्येंद्र शर्मा, सुहैल खान, मिथुन मंडल, कुंदन मंडल, राहुल मंडल, रंजीत सिंह, सरस्वती सिंह, निजाम रसूल सिद्दिकी, सोनू उर्फ राहुल, उपेंद्र चौहान, हीरालाल बढ़ई, रामेश्वर साहब, गुलाम सरवर, कालू, जनरेल सिंह, सुखराज सिंह, बकीउल्लाह, मोहम्मद मुसा, बुधमनिया, मुमताज अंसारी, नेमुद्दीन अंसारी, रामसेवक सिंह, अभिषेक, अशोक व बरमेश्वर सिंह राजन आदि।

 

Posted By: Sachin Mishra