राज्य ब्यूरो, रांची : खुद को नारकोटिक्स कंट्रोल बोर्ड का अधिकारी बताकर पांच अपराधियों ने रातू रोड में पहाड़ी मंदिर गली निवासी लाइफ प्लस फार्मा दुकान के संचालक से 30 हजार रुपये की ठगी कर ली। घटना शनिवार शाम करीब छह से सवा छह बजे के बीच की है। नशीली व नकली दवा के कारोबार का आरोप लगाते हुए मामला रफा-दफा करने के नाम पर पहले एक लाख रुपये की मांग की। अंतत: 30 हजार रुपये लेकर चंपत हो गए। इस मामले में दुकान के संचालक अविनाश कुमार ने सुखदेवनगर थाने में पांच अज्ञात अपराधियों के विरुद्ध ठगी व रंगदारी के मामले में प्राथमिकी दर्ज कराई है।

सभी पांच अपराधियों के चेहरे दुकान के सीसीटीवी कैमरे में कैद हैं। दो अपराधी पुलिस की वर्दी में तथा तीन अपराधी सिविल ड्रेस में थे। दुकान के संचालक अविनाश ने बताया कि उनकी दुकान में उनका कर्मचारी सतीश कुमार था। शाम करीब छह से सवा छह बजे वे रातू रोड दुर्गा मंदिर के समीप एक होटल में खाने गए थे। इसी बीच उनके कर्मी ने ही उन्हें बताया कि कुछ लोग आए हैं और उन्हें खोज रहे हैं। जैसे ही अविनाश दुकान पहुंचे, अपराधियों ने खुद को नारकोटिक्स कंट्रोल बोर्ड का अधिकारी बताते हुए दुकानदार पर नकली व नशीली दवा बेचने का आरोप लगाया। कहा कि वे लोग पिछले कई दिनों से उनकी दुकान की रेकी कर रहे थे। एक लाख रुपये दो नहीं तो दुकान में शटर गिरवा देंगे

अपराधियों ने दुकानदार से कहा कि एक लाख रुपये नहीं मिले तो वे लोग दुकान बंद करवा देंगे। दुकानदार खुद को असहज महसूस करते हुए 10 हजार रुपये ही देने की बात करने लगा। उसने एक सप्ताह का वक्त मांगा तो अपराधी यह कहते हुए तत्काल रुपये देने पर अड़े रहे कि वे समय नहीं दे सकते हैं। अंतत: दुकानदार 30 हजार देकर अपना पिंड छुड़ाया। उसे तब जालसाजी की जानकारी मिली, जब उसकी दुकान में पहुंचे एक पड़ोसी ने उन्हें फर्जी पुलिसकर्मी बताया। अपर बाजार के दवा व्यवसायी से ठग चुके हैं छह लाख रुपये

पूर्व में भी ये अपराधी अपर बाजार की एक दवा दुकान के संचालक से छह लाख रुपये की ठगी कर चुके हैं। इस मामले में कोतवाली थाने में उनके विरुद्ध प्राथमिकी भी दर्ज है।

Posted By: Jagran