रांची, जासं। Ranchi Airport राजधानी में कोरोना के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए रांची के बिरसा मुंडा एयरपोर्ट पर जांच में सख्ती कर दी गई है। यहां बाहर से आने वाले सभी यात्रियों की कोरोना जांच की जा रही है। जो भी कोरोना संक्रमित मिलते हैं उन्हें होम आइसोलेशन में भेजा जा रहा है। अगर, किसी के पास 72 घंटे पुरानी कोरोना जांच रिपोर्ट है तो उसकी कोरोना जांच नहीं की जाती। इसीलिए, रांची एयरपोर्ट पर उतरने वाले अधिकतर यात्री पहले से ही अपनी कोरोना जांच करा कर कर आते हैं।

रांची एयरपोर्ट से अभी 21 फ्लाइट चल रही हैं। ये फ्लाइट दिल्ली, मुंबई, हैदराबाद, कोलकाता, बेंगलुरू, हैदराबाद और चेन्नई से आ रही हैं। इन फ्लाइटों से गुरुवार को 2844 लोग रांची आए और 1333 लोग यहां से रांची गए। अब जो भी रांची एयरपोर्ट पर आ रहा है उन सबकी कोरोना जांच की जा रही है।

जांच करा कर करें हवाई सफर

एयरपोर्ट के अधिकारियों का कहना है कि कोरेाना महामारी के इस दौर में अगर कोई मुसाफिर कोरोना जांच रिपोर्ट के साथ सफर करे तो ये उसके लिए बेहतर है। रांची एयरपोर्ट के निदेशक विनोद कुमार शर्मा ने कहा कि अगर किसी यात्री को हवाई यात्रा करनी है तो वो इससे पहले कोरोना जांच करा ले। निगेटिव आने पर कोरोना जांच के साथ ही सफर करे तो उसे किसी भी एयरपोर्ट पर कोरोना जांच को लेकर तनाव नहीं झेलना पड़ेगा।

कोरोना जांच के खौफ से रांची नहीं आ रहे लोग

रांची एयरपोर्ट पर कोरोना जांच के भय से बेंगलुरू से कई लोग रांची नहीं आ रहे हैं। लोग रांची एयरपाेर्ट पर जांच की प्रक्रिया जानना चाहते हैं। रांची के सैकड़ों छात्र बेंगलुरू में रहते हैं। ये लोग भी अब घर लौटना चाहते हैं मगर क्वारंटीन होने के डर से वापस नहीं आ रहे हैं। जबकि, लोग अगर बेंगलुरू में ही कोरोना जांच करा कर अपने पास रख लें तो रांची एयरपोर्ट पर उन्हें किसी तरह की कोई परेशानी नहीं होगी।

यात्री के पास अगर कोरोना की जांच रिपोर्ट है तो रांची एयरपोर्ट पर उनकी दोबारा जांच नहीं कराई जाएगी। यात्री के पास 72 घंटे पुरानी जांच रिपोर्ट होनी चाहिए। अगर उनके पास जांच रिपोर्ट नहीं है तो यात्री को एयरपोर्ट पर जांच की प्रक्रिया से गुजरना होगा। विनोद कुमार शर्मा, निदेशक रांची एयरपोर्ट

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप