जागरण संवाददाता, रांची : झारखंड राज्य विधिक सेवा प्राधिकार झालसा के निर्देश पर 19 फरवरी से 21 फरवरी तक बिरसा मुंडा केंद्रीय कारा होटवार में बंद सजायाफ्ता कैदियों के लिए विशेष शिविर लगाया जाएगा। शिविर के माध्यम से डालसा की टीम ऊपरी अदालत में अपील किए बिना वर्षाें से सजा काट रहे प्रत्येक कैदी से बातचीत करेंगे। केस हिस्ट्री समझने के बाद उनकी ओर से ऊपरी अदालत में अपील दाखिल करने में कानूनी मदद करेंगे। झालसा की ओर से न्यायिक अधिकारियों की टीम का गठित की गई है इसमें डालसा के सचिव अभिषेक कुमार, झालसा के उपसचिव संतोष आनंद प्रसाद व पुरुषोत्तम कुमार गोस्वामी शामिल हैं।

कैदियों की पहचान के लिए 26 नवंबर से चल रहा अभियान

बता दें कि झालसा ने जेल में वर्षो से बंद ऐसे कैदी जिन्होंने सजा के खिलाफ ऊपरी अदालत में अपील नहीं है उनकी पहचान कर कानूनी सहायता उपलब्ध कराने का निर्देश दिया था। संविधान दिवस 26 नवंबर से डालसा की टीम जेल प्रशासन के सहयोग से ऐसे कैदियों की पहचान में जुटी थी।

30 कैदियों की ओर से हाईकोर्ट में की गई अपील

होटवार जेल में 1550 सजायाफ्ता कैदी हैं। डालसा टीम ने 266 ऐसे कैदियों को चिह्नित किया है जो निचली अदालत के फैसले के अनुसार सजा काट रहे हैं। इन्होंने ऊपरी अदालत में आज तक अपील फाइल नहीं की। हफ्ता भर में चिह्नित किए गए 266 कैदियों में से 30 कैदियों की ओर डालसा ने हाईकोर्ट में अपील फाइल की है। वहीं एक कैदी की ओर से सुप्रीम कोर्ट में अपील फाइल की गई है। बाकी कैदियों की ओर से जल्द ऊपरी अदालत में अपील की जाएगी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस