लोहरदगा, जासं। लोहरदगा शहरी क्षेत्र में गुरुवार को तेज गति से जा रहे कंटेनर ट्रक को पुलिस ने किस्को मोड़ के समीप रोका। इसके बाद उक्त कंटेनर को खोलने के लिए ड्राइवर को पुलिस ने निर्देशित किया। जब कंटेनर खोला गया तो उसमें 20 की संख्या में लोग बैठे थे। पूछताछ में पता चला कि सभी लोग गिरिडीह और कोडरमा के हैं, जो पुणे से भाड़े पर ट्रक कंटेनर कर लोहरदगा के रास्ते अपने गंतव्य को जा रहे थे।

पुणे से आ रहे 20 यात्रियों को पुलिस ने रोककर स्वास्थ्य विभाग के साथ वरीय पदाधिकारियों को सूचना से अवगत कराते हुए अग्रतर कार्रवाई का अनुरोध किया। इसके बाद उन यात्रियों की जांच-करने में स्वास्थ्य विभाग की टीम जुट गई है। दूसरी ओर कोरोना संक्रमण को लेकर दूसरे प्रदेश से ग्रामीण क्षेत्र में पहुंचने वाले लोगों के प्रवेश पर रोक लगाने के उद्देश्य से गांव के सीमा को लोग खुद से सील कर दिए हैं। गांव के सीमाने पर जियो और जीने दो का तख्ता लगा दिया है।

लोहरदगा में लॉकडाउन के चौथे दिन गुरुवार को कोराेना वायरस से जान बचाने के लिए लोग खुद से नजरबंद हो गए। इससे लोहरदगा शहरी क्षेत्र से लेकर ग्रामीण क्षेत्र की हलचल खत्म हो गई। लॉकडाउन को लेकर पुलिस-प्रशासन पूरी तरह से सक्रिय और सजग होकर स्थिति का आकलन करते हुए लोगों से घरों में सरने की सलाह दे रहे हैं। शहरी क्षेत्र से लेकर प्रखंड मुख्यालय व ग्रामीण क्षेत्रों में पुलिस लगातार गश्त कर रही है। साथ ही लोगों से घरों में रहने की अपील लाउडस्पीकर के माध्यम से किया जा रहा है। कोरोना से बचाव को लेकर लॉकडाउन के बाद पुलिस प्रशासन पूरी तरह से सक्रिय है। नियमों के उल्लंघन पर कार्रवाई की बात भी कह रही है।

लॉकडाउन के बाद जिले में पुलिस-प्रशासन सतर्कता बरत रही है। उपायुक्त आकांक्षा रंजन और एसपी प्रियदर्शी आलोक क्षेत्र भ्रमण कर स्थिति का जायजा लेकर संबंधित को आवश्यक दिशा-निर्देश दे रहे हैं। दवा, खाद्यान और सब्जी लेने के लिए जरूरतमंद लोग दुकान तक पहुंच रहे हैं।  इधर लॉकडाउन के बाद शहर से लेकर ग्रामीण क्षेत्र के बाजार व व्यवसाय पूरी तरह से बंद हो गई है। जिससे शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्र की जिंदगी थम गई है। लोगों को जरूरी सामान के लिए भी परेशान होना पड़ रहा है।

Posted By: Sujeet Kumar Suman

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस