केंद्र सरकार के मजदूर विरोधी नीतियों का किया विरोध

संवाद सूत्र, भुरकुंडा (रामगढ़) : केंद्र सरकार की मजदूर विरोधी नीतियों के खिलाफ एनसीओईए सीटू ने सोमवार को भुरकुंडा कोलियरी के हाथीदाडी खदान के समीप पीट मीटिंग का आयोजन किया। पीट मीटिंग में वक्ताओं ने कहा कि केंद्र सरकार एनएमपी के माध्यम से 160 भूमिगत खदानों को निजी हाथों बेचना चाह रही हैं। प्राइवेट खदानों के एवज में केन्द्र सरकार निजी मालिकों से चार प्रतिशत का लाभ लेगी। इसके साथ ही सरकार ईसीएल, बीसीसीएल और सीएमपीडीआई का 25 प्रतिशत शेयर बेचना चाहती है। साथ ही सीएमपीडीआई को एमईसीएल में मर्ज करना चाहती है। इसके साथ ही जो श्रमिक सेवा मुक्त हो जाते हैं या श्रमिक का किसी कारण वस मृत्यु हो जाती है। वैसी हालत में ग्रेच्यूटी का पैसा आवास नहीं खाली करने के नाम पर भुगतान नही किया जा रहा है। कहा कि सीसीएल प्रबंधन मजदूरों का मार्च माह के कमाये 13 दिनों की राशि का भुगतना करने से रोक दिया है। जेबीसीसीआई 11वां वेतन समझौता नही होना सरकार की गलत मंशा को दर्शाता है। बैठक की अध्यक्षता बासुदेव साव ने की। मौके पर पीडी सिंह, आरएन सिंह, गोपाल यादव, सुशील कुमार, असीम धर, किरण कुमार, सत्यनारायण ठाकुर, गणेश उरांव, एतवा मुंडा, अशोक सिंह, अर्जुन सिंह, संजय शर्मा, निरंजन पटेल, दशरथ सिंह, रविन्द्र पासवान, संजय वर्मा, बासुदेव, सुखदेव मांझी, गुदरिया बेदिया, छोटेलाल बेदिया आदि मौजूद थे।

Edited By: Jagran