बाटम

बिगड़ता जा रहा है घर का बजट, निम्न व मध्यम वर्गीय परेशान, तेजी से बढ़ रही है महंगाई

फोटो: 21 डीजीजे 16

कैप्शन:हैदरनगर बाजार बिकती सब्जियां

जाटी,मेदिनीनगर,हैदरनगर (पलामू) : डीजल व पेट्रोल की कीमतें आसमान छूने लगी हैं तो दूसरी तरफ हरी सब्जियों की कीमत में आग लगी हुई है। पिछले एक सप्ताह की बात करें तो सब्जियों की कीमत तकरीबन डेढ़ गुणा वृद्धि हुई है। कई सब्जियों के दाम तो दो गुणा तक बढ़ गए हैं। सब्जियों की कीमत में लगातार हो रही बढ़ोतरी से आमजन परेशान हैं। फलस्वरूप आमलोगों की थाली से धीरे-धीरे हरी सब्जी गायब होने लगी हैं। बढ़े दाम के के कारण गरीब व मध्यम वर्गीय परिवार को कम से कम 100 रुपये की सब्जी लेने के बावजूद सही ढंग से थाली में सब्जी नहीं दिख रही है। मेदिनीनगर निवासी मो इलियास, मनोज कुमार, राकेश प्रसाद, हैदरनगर के अजित उपाध्याय, रत्नेश कश्यप, उज्जवल पांडे, पूजन सोनी, राकेश मिश्रा व पंकज कांस्यकर आदि ने बताया कि सब्जी का दाम बढ़ने से घर का बजट बिगड़ जा रहा है। सब्जी दुकानदारों का कहना है कि महंगे दर में खरीदारी करने के कारण ही उंचे दर पर बेचना पड़ रहा है। इस कारण दुकानदारी करने में काफी परेशानी हो रही है। कभी-कभी हरी सब्जी नहीं बिकने पर बासी हो जाने के कारण घाटा भी उठाना पड़ता है। सस्ते दर में खरीद व बेचकर जितना मुनाफा कमाते थे अभी उंचे दाम में बेच कर भी उतना मुनाफा नहीं कमा पा रहे हैं। डीजल की कीमत बढ़ने और लगातार बारिश से सब्जी की कीमतें बढ़ी हैं। ट्रांसपोटिंग खर्च बढ़ गई है। बारिश से भी सब्जी की फसलों को नुकसान हुआ है। खासकर टमाटर की खेती प्रभावित हुई है।

सब्जी - दर प्रति किलो

आलू - 30

बंधा गोभी - 60

बैगन -40 से 50

परवल - 40 से 50

टमाटर -50-60

करैला - 60

शिमला मिर्च -160

भिडी -30 से 40

ओल - 60

खीरा - 40 से 50

लहसुन - 80 से 125

हरी मिर्च - 160

फूलगोभी - 60

धनिया पत्ती -400

मूली- 40 रुपये।

Edited By: Jagran