गुरु पूर्णिमा पर दीक्षा कार्यक्रम का आयोजन, इस्कॉन परिवार हुआ शामिल 20 लोगों ने ली दीक्षा, हरे कृष्ण मंत्र से गुंजा हरे कृष्णा निवास। संवाद सूत्र, मेदिनीनगर (पलामू) : गुरु अपने शिष्यों को गलत मार्ग पर चलने से बचाते हैं। गुरु का दर्जा भगवान से भी बड़ा होता है। गुरु की कृपा से मनुष्य कृष्ण भक्ति प्राप्त कर अपने को उद्धार कर सकता है। उक्त बातें हरे कृष्ण समिति के पलामू जिला प्रमुख संजय प्रभु ने कही। वे शनिवार को गुरु पूर्णिमा के अवसर पर पुलिस लाइन रोड स्थित हरे कृष्णा निवास पर आयोजित दीक्षा समारोह में बोल रहे थे । इस अवसर पर गढ़वा के मझिआंव से दीक्षा कार्यक्रम में आए 20 कृष्ण भक्तों ने भक्ति विकास स्वामी महाराज से दीक्षा ली। मौके पर हरे कृष्णा, हरे कृष्णा, कृष्णा-कृष्णा, हरे-हरे, हरे राम, हरे राम, राम-राम, हरे-हरे मंत्र के साथ हरि कीर्तन किया गया। भक्ति विकास स्वामी ने कहा कि दीक्षा ग्रहण करने वाले भक्तों का पुनर्जन्म हुआ है। भौतिक जीवन से गुरु के शरण में आईं हैं । वैष्णव भक्ति के नियम तो पालन कर सुबह 4.30 बजे उठना, 16 माला की जप करना, प्रभुपाद की लिखित पुस्तक भागवत गीता का वितरण करना, भगवान का प्रचार करना एवं लोगों को भक्ति से जोड़ने जैसे कार्य करेंगी। यही प्रभु की सच्ची सेवा है। इसके पूर्व इस्कॉन के शिक्षा ग्रुप केशवानंद प्रभु ने पंजाब के बद्रिका आश्रम से लाइव संबोधित किया। साथ ही गुरु दीक्षा प्राप्त करने वाले भक्तों को आशीष दिया। मौके पर अरविद प्रभु ने कहा कि भक्ति का ज्ञान भागवत से ही प्राप्त होता है गुरु के प्रति लोगों को कृतज्ञ होना जरूरी है। म

Edited By: Jagran