पाकुड़ : जिले के महेशपुर थाना क्षेत्र के महेशपुर-मुरारई पथ से दो खाली ट्रैक्टरो को जब्त कर प्राथमिकी दर्ज करने का मामला गरमाने लगा है। ट्रैक्टर चालकों ने आरोप लगाया है कि पुलिस खाली ट्रैक्टर को जबरन जब्त कर थाना ले आई और सहायक खनन पदाधिकारी से केस दर्ज करा दिया। इस मामले की जांच कराने की मांग की गई है।

बताते चलें कि 10 मार्च को दो नए खाली ट्रैक्टर लेकर चालक महेशपुर से मुरारई की ओर जा रहे थे। इसी बीच पुलिस ने दोनों ट्रैक्टरों को जब्त कर लिया और थाना ले गई। उसी दिन पुलिस ने एक बालू लदा ट्रैक्टर को भी जब्त किया था, परंतु सुविधा शुल्क लेकर उसे छोड़ दिया गया। पुलिस ने दोनों ट्रैक्टरों के चालक को आश्वासन दिया था कि शाम में छोड़ देंगे। लेकिन, सुविधा शुल्क नहीं मिलने पर पुलिस ने दोनों ट्रैक्टरों पर केस दर्ज करा दिया। इससे पुलिसिया कार्रवाई पर अंगुली उठने लगी है। एफआइआर में दर्ज है कि दोनों ट्रैक्टरों में 100-100 घनफुट बालू लोड था। सवाल उठता है कि अगर ट्रैक्टरों में बालू लोड था तो जब्त कर थाना में रखे गये ट्रैक्टरों से बालू कहां गायब हो गया, यह जांच का विषय है। चालकों ने आरोप लगाया है कि झूठा केस किया गया है। सहायक खनन पदाधिकारी के अनुसार ट्रैक्टर चालकों द्वारा पारगमन परिवहन चालान फार्म डी नहीं था। चालक फरार हो गया था। दोनों ट्रैक्टरों में बालू लोड था। जांच के बाद मामला दर्ज किया गया है। चालकों के पास माइ¨नग का रजिस्ट्रेशन भी नहीं था।

-----------

इस मामले में थानेदार से बातचीत हुई है। थानेदार के अनुसार ट्रैक्टरों में बालू लोड किया गया था, लेकिन पुलिस को देखते ही बालू अनलोड कर दिया गया। इस मामले की जांच कर कार्रवाई करेंगे।

नवनीत हेम्ब्रम, पुलिस उपाधीक्षक

पाकुड़।

Posted By: Jagran