लोहरदगा : समाहरणालय परिसर स्थित सभाकक्ष में सोमवार को दिशा की समीक्षा बैठक हुई। इसमें विभिन्न विभागों की क्रमवार समीक्षा की गई। बैठक में लंबित योजनाओं को पूरा करने, योजनाओं में पारदर्शिता लाने और जरूरी योजनाओं को गति देने पर चर्चा हुई। बैठक में सांसद सह जनजातीय मामलों के केंद्रीय राज्य मंत्री सुदर्शन भगत ने कहा कि सरकार समाज के सभी वर्गों के विकास को लेकर प्रतिबद्ध है। यदि आम आदमी तक योजनाएं नहीं पहुंची तो इसके लिए अधिकारी जिम्मेदार होंगे। योजनाओं का लाभ पहुंचा कर गरीबों के जीवन में परिवर्तन लाना है। जनप्रतिनिधियों के साथ समन्वय स्थापित कर क्षेत्र का भ्रमण करते हुए योजना को धरातल पर उतारने को लेकर प्रयास करें। बैठक में पूर्व की बैठक में लिये गए निर्णय की समीक्षा की गई। जिला प्रशासन द्वारा मंत्री का प्रतिवेदन उपलब्ध कराया गया। बैठक में केंद्र व राज्य सरकार द्वारा संचालित योजनाओं का ससमय पूरा करने पर जोर दिया गया। राज्य सभा सांसद धीरज प्रसाद साहू ने कहा कि समन्वय से ही विकास के क्षेत्र में कदम बढ़ाया जा सकता है। बैठक में कई महत्वपूर्ण विषयों पर भी चर्चा हुई। मौके पर डीसी विनोद कुमार, एसपी राजकुमार लकड़ा, सीएस डा. पैट्रीक टेटे, डीएसडब्ल्यूओ संजय ठाकुर,डीईओ उर्मिला कुमारी, डीएसई रेणुका तिग्गा, पीएचईडी के ईई रेयाज आलम, नगर परिषद के ईओ गंगाराम ठाकुर, जिला योजना पदाधिकारी महेश भगत, चंद्रशेखर अग्रवाल, अशोक यादव, आलोक कुमार साहु आदि मौजूद थे। कई अधिकारियों-कर्मचारियों पर गिरी गाज

लोहरदगा : दिशा की बैठक में कई अधिकारियों और कर्मचारियों पर गाज गिरी। नगर परिषद अंतर्गत पीएम आवास योजना की समीक्षा में भारी गड़बड़ी के प्रमाण मिले। जिसपर केंद्रीय मंत्री ने डीसी को निर्देश दिया की कमिटी गठित कर जांच कराएं, जांच में दोषी पाने पर नगर परिषद के कार्यपालक पदाधिकारी दोषियों के विरूद्ध प्राथमिकी दर्ज करें। ऐसा नहीं करने पर ईओ के विरूद्ध प्राथमिकी दर्ज किया जाए। पथ निर्माण योजना में भी विभागीय स्तर पर अनियमितता की बात सामने आई। जिसमें मंत्री द्वारा दोषी पाने पर प्राथमिकी दर्ज करने का निर्देश दिया गया। बिजली विभाग द्वारा काम में अनियमितता के मामले भी बैठक में उठे। जिस पर मंत्री ने जांच कर दोषियों के विरूद्ध उचित कार्रवाई की बात कही। ग्राम स्वराज अभियान पर दिया गया बल

लोहरदगा : बैठक में केंद्र सरकार द्वारा संचालित ग्राम स्वराज अभियान पर बल दिया गया। अभियान के तहत चयनित गांव में योजनाओं को ससमय उतारने की बात कही गई। इसके तहत प्रधानमंत्री उज्जवला योजना, सौभाग्य योजना, प्रधानमंत्री जन-धन योजना, प्रधानमंत्री जीवन ज्योति योजना, प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना, कृषि कल्याण योजना, इंद्रधनुष योजना को प्रभावी बनाने पर चर्चा हुई। समय पर योजना का कियान्वयन नहीं होने पर दोषी अधिकारियों पर जवाबदेही तय करने की बात कही गई।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस