संवाद सहयोगी, लोहरदगा। जिले के अलग-अलग थाना क्षेत्रों में सोमवार को हुई वज्रपात की घटनाओं में दो बच्चों सहित तीन की मौत हो गई है। वज्रपात से एक ही गांव के दो बच्चों की मौत हुई है। वज्रपात के बाद गांव में कोहराम मच गया है। वज्रपात की घटना में बच्चों की मौत की जानकारी मिलने के बाद सदर थाना पुलिस ने शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए आवश्यक प्रक्रिया शुरू कर दी है। हालांकि शाम होने की वजह से पोस्टमार्टम की प्रक्रिया को अंतिम रूप नहीं दिया जा सका।

बताया जा रहा है कि सदर थाना क्षेत्र के मन्हो बड़का टोली के रहने वाले दिलेश उरांव का पुत्र रोशन उरांव (14) और बीतन महली का पुत्र दामू महली (12) गांव के ही सामुदायिक केंद्र के समीप खेल रहे थे। इसी दौरान तेज गर्जन व बारिश के साथ अचानक से वज्रपात हो गया। जिसकी चपेट में आने से दोनों बच्चे गंभीर रूप से झुलस गए। परिजनों ने यह देखा तो दोनों बच्चों को उठाकर घर ले आए। साथ ही, दोनों बच्चों गोबर में गाड़कर उन्हें ठीक करने की कोशिश की। इस बीच गांव के कुछ बुद्धिजीवी वर्ग के लोगों की पहल पर दोनों बच्चों को इलाज के लिए सदर अस्पताल लाया गया। जहां पर चिकित्सकों ने दोनों को मृत घोषित कर दिया।

दूसरी ओर सेन्हा थाना क्षेत्र के तुईमू गांव निवासी रोपना उरांव का पुत्र संजय उरांव (17) वज्रपात की चपेट में आने से गंभीर रूप से झुलस गया था। जिसे इलाज के लिए सदर अस्पताल लाया गया। जहां पर चिकित्सकों संजय को मृत घोषित कर दिया। बताया जा रहा है कि संजय मवेशियों को लेकर चरवाही के लिए तुईमू टांड़ की ओर गया हुआ था। जहां पर अचानक हुए वज्रपात की चपेट में वह आ गया। 

Posted By: Sachin Mishra