लोहरदगा : व्यवहार न्यायालय परिसर में नालसा एवं झालसा के निर्देशानुसार नवनियुक्त 181 पारा लिगल वो¨लटियर्स में 45 पीएलवी के लिए पांच दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। पांच दिवसीय इस कार्यशाला का उदघाटन प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश चंद्र प्रकाश अस्थाना, पुलिस अधीक्षक प्रियदर्शी आलोक, जिला एवं अपर सत्र न्यायाधीश प्रथम गोपाल पांडे ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्जवलित कर किया। मौके पर प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश चंद्र प्रकाश अस्थाना ने कहा कि पीएलवी समाज के अंतिम व्यक्ति को सरकारी योजनाओं के प्रति जागरूक करते हुए उन तक सरकारी लाभ पहुंचाने की कोशिश करें। उन्होंने कहा कि पीएलवी न्यायपालिका प्रशासन, जिला प्रशासन व पुलिस प्रशासन की बीच सेतु का काम करते हुए पिछड़े व जरूरतमंदों तक सहायता पहुंचाने का काम करेगी। पीएलवी को बढ़ती जनसंख्या, डायन-बिसाही, अंधविश्वास जैसी कुप्रथाओं के प्रति आमलोगों को जागरूक करने की जरूरत है। मौके पर पुलिस कप्तान प्रियदर्शी आलोक ने कहा कि आज न्यायिक प्रक्रिया की जटीलता एवं न्यायिक जानकारी के अभाव में आज भी बहुत से लोग न्याय से वंचित रह जाते हैं। ऐसे में पीएलवी का क‌र्त्तव्य और बढ़ जाता है की वे वैसे लोगों के न्याय के लिए कार्य करें। मौके पर अपर मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी चौधरी एहशान मोईज, एसडीजेएम सह प्रभारी न्यायाधीश निरूपम कुमार, न्यायिक दंडाधिकारी प्रथम मनोज कुमार इंदवार, हेमंत सिन्हा आदि मौजूद थे।

Posted By: Jagran