संवाद सूत्र, लातेहार : मानव जीवन में शांति स्थापित करना व देश का कल्याण करना ही कार्यक्रम के आयोजन का उद्देश्य है। वह संसार के किसी भी क्षेत्र में निवास करता हो। चाहे वे शहर में रहने वाले हों अथवा ग्रामीण क्षेत्र में। चाहे वो जेल में बंद हो अथवा जंगलों में राह भटक गया हो। उक्त बातें प्रेम रावत फाउंडेशन द्वारा आयोजित शांति-शिक्षा पर आयोजित वीडियो कार्यक्रम के दौरान बलराम प्रसाद मौजूद लोगों से कही। कहा कि वर्तमान युग में मानव, मानव के खून का प्यासा हो गया है। स्वार्थ में वह इतना अंधा हो गया है कि भले-बुरे का उसे आभास नहीं। अपराध बढ़ रहा है। मार-काट के कारण इंसान पशुता की ओर अग्रसर है। रिश्ता कलंकित हो रहा है। ऐसी विकट स्थिति में बाबा का यह ज्ञानात्मक वीडियो लोगों में आध्यात्म और परमार्थ के लिए प्रेरित कर रहा है। शांति स्थापित करने का उनका प्रयास सफल हो रहा है। बताया कि 10 व 11 नवंबर को फांउडेशन द्वारा लातेहार मंडलकारा में शांति-शिक्षा पर वीडियो कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। कार्यक्रम के दौरान जेल अधीक्षक मेंशन बारवा व जेलर सोनु कुमार को अंतर्राष्ट्रीय शांति वक्ता प्रेम रावत जी की विश्व प्रसिद्ध पुस्तक तीर का लक्ष्य भेंट कर सम्मानित करने की बात भी कही। मौके पर राजकिशोर प्रसाद, प्रदीप ठाकुर, गणेश प्रसाद, चंदन कुमार, प्रेम हंस छोटू समेत अन्य मौजूद थे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप