मनिका : मनिका प्रखंड कार्यालय के सभागार में मंगलवार को बाल विवाह उन्मूलन के लिए वेदिक सोसाइटी, यूनिसेफ झारखंड एवं झारखंड सरकार के संयुक्त रूप में कंसल्टेशन बैठक का आयोजन किया गया। मी¨टग की अध्यक्षता प्रखंड प्रमुख गायत्री देवी के द्वारा किया गया। वेदिक सोसायटी के कार्यक्रम प्रबंधक विनय कुमार विश्वास ने बाल विवाह की स्थिति का जिक्र करते हुए कहा कि 37.1 प्रतिशत बाल विवाह लातेहार जिला में होता है और झारखंड देश का तीसरा राज्य है जहां बाल विवाह होती है। बाल विवाह के चर्चा के दौरान कई कारण सामने आए जिसमें अशिक्षा, जागरूकता की कमी, दहेज प्रथा एवं सामाजिक असुरक्षा खास है। मनिका प्रखंड विकास पदाधिकारी संतोष कुमार ने कहा कि मनिका प्रखंड को बाल विवाह मुक्त बनाने के लिए सभी विभागों ने अपने स्तर पर कई योजना तैयार किए। बाल विवाह उन्मूलन के लिए पंचायतों में दीवार लेखन, होर्डिंग्स और जागरूकता रैली निकाली जाएगी। पंचायती राज विभाग ने नुक्कड़ नाटक के माध्यम से पंचायत स्तर पर लोगों को जागरूक करने की काम करेगी। इसी तरह स्वास्थ्य विभाग कलस्टर स्तर पर बैठक, सास बहू सम्मेलन करेगी। शिक्षा विभाग गुरु गोष्ठी और विद्यालय प्रबंधन समिति की बैठकों के माध्यम से किशोरियों को जागरूक करने की काम करेगी। बैठक के बाद बाल विवाह के खिलाफ प्रखंड में एक रैली निकाली गई और जन-जन को यह संदेश दिया गया कि बाल विवाह एक अभिशाप है और इसे खत्म करना है । रैली के माध्यम से लोगों से अपील किया गया कि ज्यादा से ज्यादा लोगों को जागरूक करें और बाल विवाह को खत्म करने में सहयोग करें। जेएसएलपीएस क्लस्टर लेवल की बैठक और विलेज ऑर्गेनाइजेशन बैठक कर गांव के लोगों को जागरूक करेगी। बैठक में समाज कल्याण विभाग, स्वास्थ्य विभाग, शिक्षा विभाग, पंचायती राज विभाग, जेएसएलपीएस के उच्च पदाधिकारी शामिल थे।

Posted By: Jagran