संवाद सहयोगी, झुमरी तिलैया: सावन की पहली सोमवारी पर अभ्रकांचल के श्रद्धालुओं में खासा उत्साह दिखा। कोरोना काल के बावजूद भक्त मंदिरों में पहुंच भोले शंकर का जलाभिषेक किया। कोरोना को देखते हुए श्रद्धालुओं के लिए कई मंदिरों में बाहर से जलाभिषेक की व्यवस्था की गई। पूजा-अर्चना के लिए विशेष तैयारी की गई थी। जिले के ध्वजाधारीधाम के अलावा शहर के खुदरापट्टी शिव मंदिर,पुराना बस स्टैंड में बोधी मोदी शिव मंदिर, करमा शिव मंदिर, ब्लाक रोड शिव मंदिर, सहित सभी शिवालयों पर भक्त भी अपने-अपने ढंग से भगवान शिव को खुश करने में लगे रहे। सभी मंदिर में फलाहार प्रसाद मुख्य द्वार के बाहर से ही पुजारी लेकर भगवान शिव को चढ़ा रहे थे। मंदिरों के बाहर भक्तों की होने वाली भीड़ व कोरोना से बचाव के लिए विशेष इंतजाम किए गए थे। इस साल कोरोना वायरस को देखते हुए मंदिर के बाहर से पूजा के लिए आने वाले श्रद्धालुओं से भी आग्रह किया गया था कि शारीरिक दूरी का पालन कर पूजा करें। जिले के अन्य प्रखंडों में स्थित शिवालयों में भी श्रद्धालु महिला-पुरुषों ने भक्ति भाव से भगवान भोलेनाथ का जलाभिषेक किया। हालांकि सभी जगह कोरोना का प्रभाव देखा गया। इस वजह से लोग दूरी बनाकर जलाभिषेक करते रहे। मरकच्चो के शिवालयों में भक्तों ने की पूजा-अर्चना

संवाद सूत्र, मरकच्चो : श्रावण माह की पहली सोमवारी पर मरकच्चो प्रखंड के विभिन्न शिवालयों में शिव भक्तों ने देवाधिदेव महादेव का जलाभिषेक किया। सोमवार सुबह से ही शिवालयों में श्रद्धालुओं के द्वारा जलाभिषेक को लेकर भीड़ जमने लगी थी जो देर शाम तक चलता रहा। श्रद्धालु महिला, पुरुष, युवक, युवतियां अपने-अपने नजदीक के शिवालयों में भगवान शिव पर बेलपत्र, चंदन ,दूध, धतूरा, गांजा व भांग आदि चढ़ाकर भगवान शिव की पूजा अर्चना की। प्रखंड के प्रसिद्ध धार्मिक स्थल कर्माधाम, मां चंचालिनी धाम, लाल नगर स्थित शिवालय, कोटवार मोहल्ला, बड़ा अखाड़ा, ब्राह्मण टोला, पश्चिम मोहल्ला, कुम्हार टोली, थाना परिसर, प्रखंड मुख्यालय परिसर, श्रीनगर, जामु, दशारो, पांडेडीह, डूमरडीहा, विचरिया, नईटांड़, नावाडीह वन स्थित शिवालयों में लोगों ने पूजा-अर्चना की।

Edited By: Jagran