संवाद सहयोगी, झुमरीतिलैया : मा‌र्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के राज्यव्यापी आह्वान पर शनिवार को कार्यकर्ताओं ने विभिन्न मांगों को लेकर वर्चुअल धरना-प्रदर्शन किया। धरना प्रदर्शन के माध्यम से सभी को फ्री वैक्सीन ,दवा, बेड, ऑक्सीजन व समुचित इलाज तथा कोरोना काल तक आयकर दायरे से बाहर के परिवारों के खाते में 7500 रू के साथ प्रति माह प्रति सदस्य 10 किलो अनाज देने की मांग की गई। लॉकडाउन को ध्यान में रखते हुए माकपा कार्यकर्ताओं ने मांगों से संबंधित पोस्टर लेकर घरों के बाहर प्रदर्शन किया। इस अवसर पर मा‌र्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के राज्य सचिवमंडल सदस्य संजय पासवान ने कहा कि देश में कोरोना महामारी अप्रत्याशित रूप से त्रासदी का रूप ले चुका है। केंद्र की ओर से जो कदम उठाया जाना था, उसमें सरकार फेल रही। मोदी सरकार किसी अन्य निरंकुश और सत्तावादी शासक की तरह ही लोगों को राहत प्रदान करने के बजाय दिल्ली में नया संसद भवन सेंट्रल विस्टा के निर्माण के लिए अधिक चितित हैं। जब हजारों लोग मर रहे हैं, तब पीएम मोदी अपने महल और एक नई संसद भवन बनाने में व्यस्त है। महामारी से निपटने में पूरी तरह से नाकाम रहने के मामले में मोदी सरकार की पूरी दुनिया में आलोचना होने के बावजूद एक बेकार परियोजना पर पैसे की बर्बादी कर रही है। जब कोरोना नियंत्रण में था, तब क्रेडिट मोदी जी ले रहे थे, आज जब महामारी विनाशक हो गई है, हजारों लोग मर रहे हैं, तब राज्य सरकारों पर थोप दिया है। देश की जनता यह देख रही है। सीपीएम के जिला सचिव असीम सरकार ने मांग किया कि केंद्र के स्तर पर वैश्विक और घरेलू सभी उपलब्ध स्त्रोतों से टीकों की खरीद की जाए। तत्काल पूरे देश में सभी के लिए मुफ्त टीकाकरण की गारंटी कर टीकों के घरेलू निर्माण को बढ़ाने के लिए जरूरी लाइसेंस दिए जाएं। बजट में आवंटित 35 हजार करोड़ रुपये टीके के लिए खर्च किए जाएं। सेंट्रल विस्टा परियोजना की राशि को ऑक्सीजन और टीके की खरीद मे लगाया जाय। कार्यक्रम में सुरेन्द्र राम, शिवपूजन पासवान, अभ्रोज्योति, सौरव कुमार पासवान, अभिषेक अभी, शुभ्रोज्योति सरकार, नवीन कुमार आदि शामिल थे।

Edited By: Jagran