खूंटी : कर्रा प्रखंड के घासीबारी गांव में गत रविवार की देर रात 40 वर्षीय बिरसा स्वांसी नामक मजदूर ने बीमारी से तंग आकर अपने घर में फंदे से झूलकर आत्महत्या कर ली। ग्रामीणों के अनुसार बिरसा स्वांसी अपनी पत्नी और तीन बच्चों के साथ रांची की करमटोली में रहकर मजदूरी करता था। वह लॉकडाउन के कारण आर्थिक तंगी से गुजर रहा था। साथ ही वह पिछले कुछ दिनों से बीमार भी चल रहा था। तीन दिनों पूर्व वह बीमारी की अवस्था में ही पैदल चलकर अकेले गांव आ गया और गांव में मां के साथ रहने लगा। जानकारी के अनुसार उसकी बीमारी की अवस्था को देखकर कुछ ग्रामीणों ने उसे सोमवार को कोरोना जांच कराने की सलाह दी थी, लेकिन रविवार को देर रात उसने घर में ही फंदे से झूलकर आत्महत्या कर ली। सुबह उसकी मां सहित ग्रामीणों को आत्महत्या की जानकारी मिली, तो सशंकित ग्रामीणों ने इसकी सूचना पुलिस को दी। सूचना मिलने पर पुलिस मेडिकल टीम के साथ मौके पर पहुंची और शव का सैंपल जांच के लिए लिया गया। जांच के बाद जब उसकी रिपोर्ट निगेटिव आई, तब आवश्यक प्रक्रिया की गई।

---

पद्दी ने कहा-मकान मालिक ने करा दिया था घर खाली

बिरसा की पत्नी ने बताया कि उसके पति रांची के करमटोली में रहकर मजदूरी कर परिवार की परवरिश करते थे। लॉकडाउन में काम मिलना मुश्किल हो गया था। वहीं, गत 30 जुलाई को मकान मालिक ने उनसे घर खाली करा लिया। गांव में भी कोरोना जांच करने की बात पर लोग उससे दूरी बनाए थे। हालांकि, कोरोना की जांच वह पहले ही करा चुके थे, जिसमें कुछ नहीं निकला था। यह सब झेलना उनके लिए मुश्किल हो गया होगा और शायद इसी से तंग आकर उसके पति ने यह बड़ा कदम उठाया।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021