तोरपा : भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता अविनेश कुमार ने कहा कि झारखंड में निराशा से भरा हुआ बजट पेश किया गया है, जो असफलताओं की कुंजी है। गरीब व आदिवासी विरोधी, रोजगार नहीं देने वाला बजट है। झारखंड की मूलभूत समस्या और उसके समाधान का बजट में कोई प्रावधान नहीं है। इसमें बेरोजगारों को रोजगार कैसे देंगे, इसका उल्लेख नहीं है। गुरुवार को अविनेश कुमार तोरपा नगर भवन में संवाददाता सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि छोटे-छोट उद्योगों पर सरकार की कोई ²ष्टि नहीं है। केंद्र सरकार की जितनी योजनाएं हैं, मुख्यमंत्री उन्हें अपने राज्य में नाम बदल कर चलाने वाले हैं। आयुष्मान योजना, प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का नाम बदलकर उसका क्रेडिट लेना चाहते हैं। ये एक एंटी एग्रीकल्चर बजट है। बजट में सरकार ने गुरुजी के नाम से भोजन वितरण की योजना बनाई है। पिछले साल कोरोना काल में दाल-भात का जो हश्र हुआ था, वही इसका भी होगा। उन्होंने कहा कि कोरोना काल में हेमंत सरकार ने क्रेडिट लेने का काम किया है। उन्होंने कहा कि पिछले एक साल में हेमंत सरकार ने कुछ भी कम नही किया है, बल्कि एक वर्ष के अंदर में इस सरकार ने आत्मसमर्पण कर दिया है। कुल मिला कर सही दिशा देने वाला स्पष्ट बजट नहीं है। केवल नरेंद्र मोदी को कोसने का काम एक साल से करते आ रही है। ये सरकार वित्तीय कुप्रबंधन का शिकार हो गई है। उन्होंने कहा कि संथाल परगना के ही सत्ता पक्ष के एक विधायक लाबिन हेम्ब्रम ने ही अपने सरकार पर सीधा आरोप लगा दिया है कि खनिज संपदा की खुली छूट हो रही है। प्रेसवार्ता के दौरान जिलाध्यक्ष चंद्रशेखर गुप्ता, संतोष जायसवाल, रामानंद साहू, शशांक शेखर राय, रामगढ़ एससी मोर्चा अध्यक्ष विनोद कुमार, युवा मोर्चा अध्यक्ष रणधीर प्रसाद सहित कई भाजपा कार्यकर्ता मौजूद थे।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप