संवाद सहयोगी, नारायणपुर (जामताड़ा) : नारायणपुर थाना क्षेत्र के देवलबाड़ी गांव में गुरुवार रात अपराधियों ने मोहित कुमार मंडल के घर में घुसकर हथियारों के दम पर नकदी, जेवर लाखों की संपत्ति लूट ली। इनकी संख्या दस के करीब थी। भागने के दौरान डकैतों ने परिजनों को बांधकर कमरे में बंद कर दिया। सुबह ग्रामीणों ने उन्हें बाहर निकाला। घर में ही उनका छड़-सीमेंट और किराना की दुकान है।

रात करीब 12 बजे अपराधी दस की संख्या में अपराधी मेन गेट का ताला तोड़कर मोहित कुमार मंडल के घर में घुसे। सबसे पहले डकैतों ने रिवाल्वर का भय दिखाकर उनके 12 वर्षीय बेटे को कब्जे में ले लिया और अन्य कमरों को खुलवाया। फिर सभी को एक कमरे में हाथ पैर बांधकर बंद कर दिया। उसके बाद बक्से और अलमीरा की चाबी ले ली। गृह स्वामी मोहित कुमार मंडल ने बताया कि करीब दो घंटे तक अपराधियों ने घर की तलाशी ली। इस दौरान 40 हजार रुपये, छह भरी सोने की कानबाली, चेन, चूड़ी समेत दो लाख के गहने लूट लिए। बदमाश अपने साथ आवश्यक कागजात लेकर चले गए। जाते-जाते डकैतों ने मोहित के मोबाइल को किरासन तेल में डाल दिया तथा सभी लोगों को घर में बंद कर ताला लगा दिया। सुबह जब दुकान नहीं खुली तो लोगों ने आवाज लगाई। तब पता चला कि वे लोग घर में बंद है। वे घर में अपनी मां, पत्नी और बेटे के साथ रहते हैं।

सूचना पर थाना प्रभारी सुरेंद्र कुमार सिंह पुलिस बल के साथ घटनास्थल पर पहुंचे। उन्होंने मोहित एवं उनके भाई उत्तम मंडल से पूछताछ की। थाना प्रभारी ने बताया कि पुलिस मामले की पड़ताल करेगी और घटना में शामिल अपराधियों को पकड़ लिया जाएगा।

---------------

पहले भी हुई थी डकैती, पास में है पुलिस पिकेट

पूर्व में भी थाना क्षेत्र के मिरगा, बादलपुर एवं कालीपहाड़ी गांव में भी डकैती की हो चुकी है। तीन वर्ष पूर्व भी देवलबाड़ी के मोहित कुमार मंडल की दुकान के पास से एक अ़ॉटो चोरी हुई थी। जहां डकैती की घटना हुई है वहां से महज दो सौ गज की दूरी पर पुलिस पिकेट है। देवलबाड़ी पुलिस पिकेट पर पुलिस बल के जवान तैनात है। देवलबाड़ी को उग्रवाद प्रभावित क्षेत्र माना जाता है। प्रशासन ने देवलबाड़ी में पुलिस पिकेट की स्थापना की है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप