करमाटांड़ (जामताड़ा) : करमाटांड़ प्रखंड क्षेत्र के तरकोजोरी पंचायत भवन प्रांगण में शनिवार को जनता दरबार का आयोजन किया गया। उपायुक्त आदित्य कुमार आनंद, डीडीसी रामाशंकर प्रसाद ने दरबार का जायजा लिया और सभी पदाधिकारियों को जनता की समस्याओं को अविलंब निदान करने का निर्देश दिया। साथ ही जनता दरबार में आए लोगों ने प्रधानमंत्री आवास व शौचालय निर्माण जैसी समस्याओं को रखा। इसके लिए लोगों ने सूची में नाम दर्ज नहीं होने के बाबत पदाधिकारी के समीप ही आवास योजना के काउंटर पर एक दूसरे से पहले सूची में अपना नाम दर्ज करने के लिए धक्का-मुक्की करते रहे। ग्रामीणों ने प्रधानमंत्री आवास योजना, शौचालय निर्माण, वृद्धा पेंशन योजना, उज्ज्वला योजना, राशन कार्ड, विधवा पेंशन जैसी समस्याओं के निदान के लिए उपायुक्त से फरियाद किया। उपायुक्त ने कहा कि सभी विभाग अपने-अपने विभाग की योजना के बारे में लोगों को जानकारी दें तथा जो लाभुक जिस योजना के लाभ लेंगे उसे लाभांवित करें।

सभी स्टॉल पर लगी आवेदनों की झड़ी :

जनता दरबार में हर विभाग ने अलग-अलग स्टॉल लगाकर लोगों की समस्याएं सुनी। इस दौरान ग्रामीणों ने वृद्धा पेंशन से 100, स्वास्थ्य विभाग से 45, पशुपालन विभाग में 70, लाडली योजना से 1, निर्वाचन में 7, उज्ज्वला योजना में 7, कृषि संबंधित 105, दिव्यांग से 5, समाजिक सुरक्षा के तहत 2, प्रधान मंत्री आवास योजना से 200 आवेदन मिलें।

ये थे उपस्थित : जनता दरबार में पंचायत राज के सहायक निदेशक राजशेखर, जिप उपाध्यक्ष शायरा बानो, श्रम अधीक्षक शैलेंद्र कुमार, बीडीओ प्रभाकर मिर्धा, सीओ सच्चिदानंद वर्मा, पीएचईडी के एसडीओ मदन मोहन ¨सह, कार्यपालक अभियंता सुरेंद्र कुमार दिनकर, बीएसएम के जिला समन्वयक रूबी कुमारी, प्रखंड बीस सूत्री अध्यक्ष ¨ककर पंडित, उपप्रमुख मुबारक अंसारी, सीआई आशुतोष चौधरी, प्रखंड कृषि पदाधिकारी गौतम बाउरी, बाल विकास परियोजना के सुपरवाइजर निहारीका, अन्नु तिग्गा, भारती कुमारी, समीद अंसारी समेत सैंकड़ों ग्रामीण उपस्थित थे।

कैंसर पीडि़त के इलाज के लिए मांगी मदद :

इधर, जनता दरबार में कठबरारी उत्क्रमित मध्य विद्यालय के कक्षा 6 के छात्र मुजफ्फर अंसारी के पिता अलिमुद्दीन अंसारी ने अपने बेटा के बल्ड कैंसर के बारे में डीडीसी से इलाज के लिए गुहार लगाया। उसने बताया कि मुजफ्फर के इलाज के लिए सरकारी सुविधा के लिए मांग कर रहे है। गरीब होने से इलाज के लिए बड़ी रकम खर्च करने में असमर्थ हैं। डीडीसी ने अश्वासन दिया कि इलाज के लिए सुविधा दी जाएगी।

Posted By: Jagran