जामताड़ा : जिला विधिक सेवा प्राधिकार के तत्वावधान में शनिवार को  व्यवहार न्यायालय परिसर में लोक अदालत का आयोजन किया गया। लोक अदालत की अध्यक्षता अपर जिला व सत्र न्यायाधीश प्रथम कमल कुमार श्रीवास्तव ने की। मौके पर लोक अदालत के संचालन में 34 मामले और 84 हजार 300 रुपये की राशि वसूली की गई। जिला जज ने बताया कि लोक अदालत एक ऐसा प्लेटफॉर्म है जहां दोनों पक्षों की राजी खुशी से मामले का निष्पादन किया जाता है। अगर कोई पक्ष अपने मामले को निष्पादन करना चाहते हैं तो वह लिखित आवेदन जिला विधिक सेवा प्राधिकार को दें उनके मामले का निष्पादन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि दोनों पक्षों के बीच अपने-अपने आवेदन पर सुनवाई के लिए मध्यस्थता से भी कराने को कहा। उन्होंने कहा कि लोक अदालत में जो भी मामले का निष्पादन किया जाता है उसमें अग्रेतर कार्रवाई नहीं होती है। मौके पर जिला विधिक सेवा प्राधिकार के सचिव ने कहा कि ऐसी बात नहीं है कि लोक अदालत के दिन ही मामले का निष्पादन किया जाता है। आवेदक यदि किसी भी समय अपना आवेदन दे दोनों पक्षों की उपस्थिति में किसी भी दिन मामले को निष्पादित कर दिया जाता है। इस मौके पर जिला विधिक सेवा प्राधिकार के सचिव कुशेश्वर सिकू, परिवार न्यायालय के प्रधान न्यायाधीश मनोज श्रीवास्तव, अपर जिला व सत्र न्यायाधीश  एक कमल कुमार श्रीवास्तव, एडीजे टू विपिन बिहारी गौतम, एडीजे थ्री देवेश कुमार त्रिपाठी, मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी मोहम्मद अब्दुल नसीर, एसीजेएम शैलेंद्र कुमार, एसडीजेएम विक्रम आनंद, न्यायिक दंडाधिकारी अरविद कुमार सहित सभी न्यायालय कर्मी मौजूद थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस