जमशेदपुर : अब बच्चे को पढ़ाने के लिए माता-पिता को ज्यादा टेंशन लेने की जरूरत नहीं है। अगर आपके बच्चा पढ़ने में तेज हैं तो उसे देश के किसी भी कॉलेज में दाखिला मिल सकती हैं। इसके लिए पैसा बाधा नहीं बनेगी। अभी तक पैसा की वजह से अधिकांश छात्र अच्छे कॉलेज में दाखिला नहीं ले पाते थे लेकिन अब ज्यादा परेशान होने की जरूरत नहीं है। बल्कि वैसे लोगों को ध्यान में रखते हुए एजुकेशन लोन का दायरा बढ़ा दिया गया है। अगर आपके पास पैसा नहीं हैं, तो ऐसी स्थिति में आप अपने बच्चों के लिए हायर एजुकेशन लोन ले सकते हैं।

सरकार ने एजुकेशन लोन का दायरा बढ़ाने की प्रक्रिया को और आसान कर दिया है। ताकि पैसा के अभाव में किसी की भी पढ़ाई अधूरा नहीं रह जाए। पढ़ाई के लिए आप आसानी से लोन ले सकते हैं और अपने बच्चे को डॉक्टर-इंजीनियर बना सकते हैं। हर माता-पिता की चिंता होती है कि उसका बेटा-बेटी सही ढंग से पढ़ाई कर लें। ताकि आगे की भविष्य संवर जाए।

जानिए, कैसे मिलेगा लोन आपको

एजुकेशन लोन के लिए आपको ज्यादा परेशान होने की जरूरत नहीं है। देश या विदेश कहीं भी पढ़ाई करने के लिए आसानी से लोग आपको मिल जाएगी। यह लोन छात्र के नाम पर दिया जाता है। लेकिन आवेदक में माता-पिता का नाम होता है। माता-पिता के पास भारतीय नागरिक का प्रमाण पत्र होना चाहिए।

कोर्स के प्रकार से तय होता लोन की राशि

लोन देते समय कई बिंदुओं पर ध्यान दिया जाता है। उसके आधार पर ही लोन पास हो पाता है। इसमें कोर्स के प्रकार, शिक्षण संस्थान और उधारकर्ता की एलिजिबिलिटी के आधार पर लोन की राशि तय की जाती है। घरेलू कोर्स के लिए 50 लाख रुपए और विदेश में पढ़ाई के लिए एक करोड़ रुपए तक का लोन मिल सकता है।

चार लाख रुपए तक नहीं जमा करना होगा सिक्योरिटी

अगर आप देश में ही रहकर पढ़ाई करना चाहते हैं तो आपको चार लाख रुपए तक लोन मिल जाएगा। इसपर किसी तरह की सिक्योरिटी जमा करने की जरूरत नहीं होती है। यानी बिना गारंटी आप चार लाख रुपए तक ले सकते हैं। वहीं अगर आप चार लाख रुपए से अधिक का लोन लेते हैं तो आपको गारंटर की जरूरत पड़ेगी। वहीं अगर आप 6.5 लाख से अधिक लोन लेना चाहते हैं तो आपको संपत्ति बंधक रखनी होगी।

कोर्स के हिसाब से मिलता लोन

हर कोर्स के लिए अलग-अलग लोन मिलता है। इंजीनियरिंग, मैनेजमेंट, मेडिकल, होटल मैनेजमेंट और आर्किटेक्चर में ग्रेजुएशन या पोस्ट ग्रेजुएशन की पढ़ाई के लिए लोन ले सकते हैं। इन कोर्सों के लिए आसानी से एजुकेशन लोन मिल जाता है।

पर्सनल लोन की अपेक्षा एजुकेशन लोन काफी सस्ता

पर्सनल लोन की अपेक्षा एजुकेशन लोन काफी सस्ता होता है। हालांकि, कोर्स और शिक्षण संस्थानों के आधार पर बैंक ब्याज दर तय करता है। आमतौर पर यह सात से बारह फीसद के बीच होता है।

लोन के लिए यह दस्तावेज जरूरी

लोन के लिए कई दस्तावेज की जरूरत पड़ती है। इसमें लोन एप्रूवल के दौरान बैंक आवेदक से संस्थान का एडमिशन लेटर, फीस स्ट्रक्चर, अभिभावक की सैलरी स्लिप और आयकर रिटर्न की कॉपी मांगा जाता है।

पांच से सात में चुकाना होता है लोन

पढ़ाई पूरी होने के बाद पांच से सात साल के बीच में एजुकेशन लोन चुकाना होता है। हालांकि, कई बार बैंक इसे आगे भी बढ़ा देते हैं।

Edited By: Jitendra Singh