जमशेदपुर जागरण, संवाददाता : मानगो थानाक्षेत्र के कुमरुम बस्ती गणेश टोला में रीता कर्मकार नामक विवाहिता ने फासी लगाकर खुदकशी कर ली। रीता ने अपने कमरे में सीलिंग में लगे बास के सहारे दुपट्टा बाधकर खुदकशी की। मृतका के पति शकर कर्मकार ने उसका शव फंदे से उतारा।

उसे एमजीएम अस्पताल ले गया। जहां चिकित्सकों ने जाच के बाद उसे मृत घोषित कर दिया। शकर ने शव को एमजीएम अस्पताल के शीतगृह में रखवा दिया। रविवार को पुलिस एमजीएम अस्पताल पहुंची। शव को शीतगृह से निकलवाया। रीता के शव का पोस्टमार्टम कराया गया। घटना के बारे में शकर कर्मकार ने बताया कि शनिवार की दोपहर वह मछली पकड़ने नदी की तरफ गया था। घर में पत्नी रीता और उसके तीन बच्चे मौजूद थे। रीता ने दो बेटियों को बाहर खेलने के लिए भेज दिया। तीसरा बच्चा काफी छोटा है जिसे दूध पिलाने के बाद बिस्तर पर ही लिटा दिया। थोड़ी देर बाद जब बेटिया खेलकर वापस घर पहुंची तो अपनी मा को फंदे से लटका हुआ पाया। बेटियों ने ही पड़ोसियों को जानकारी दी।

पड़ोसी घर में जमा हो गए। उनमें से ही एक ने फोन कर जानकारी दी। इसके बाद में तुरत अपने घर पहुंचा। कारण को लेकर लगाए जा रहे कयास : रीता कर्मकार ने आत्महत्या क्यों की इस बारे में कोई कुछ साफ नहीं बता रहा है। पति शकर का कहना है कि उसकी मानसिक हालत ठीक नहीं थी। हो सकता है कि इसी वजह से उसने ऐसा कदम उठाया हो। हालाकि दोनों के बीच अक्सर झगड़ा होने की बात भी कही जा रही है। उधर, पुलिस का इस मामले में कहना है कि पोस्टमार्टम की रिपोर्ट आने के बाद ही रिपोर्ट के आधार पर कार्रवाई की जाएगी। अभी कुछ कहा नहीं जा सकता। वैसे विभिन्न बिंदुओं को ध्यान में रखकर जांच की जा रही है।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप