जमशेदपुर (जागरण संवाददाता)। आदित्यपुर थाना क्षेत्र के गम्हरिया आनंदपुर निवाासी जमीन कारोबारी विश्वजीत बेज उर्फ रंजीत बेज की हत्या में अज्ञात के खिलाफ हत्या की प्राथमिकी मृतक के बड़े भाई प्रदीप बेज आदित्यपुर थाना में दर्ज की गई है। वहीं पुलिस ने रंजीत के गम्हरिया ऑफिस में काम करने वाले एक युवक समेत तीन लोगों को पूछताछ के लिए पुलिस ने उठाया है। मृतक के मोबाइल की कॉल डिटेल पुलिस निकाल रही है।

रंजीत बेज जमीन के कारोबार से जुड़ा था और कंस्ट्रक्शन का काम करता था। वो शुक्रवार की रात गम्हरिया से अपना कार्यालय बंद कर अपनी डिस्कवर बाइक से आनंदपुर जा रहा था। रास्ते में सपड़ा रोड पर घात लगा कर बैठे बदमाशों ने गोली मार कर हत्या कर दी थी। शनिवार को एमजीएम मेडिकल अस्पताल में शव का पोस्टमार्टम किया गया। शव का अंतिम संस्कार बिष्टुपुर के पार्वती घाट पर पौने पांच बजे हुआ। 

युवक ने फोन किया था भैया का एक्सीडेंट हो गया : रंजीत के जीजा ने बताया कि घटना के बाद हमलावर फरार हो गए थे। गांव का ही एक युवक घर लौट रहा था। उसने रास्ते में रंजीत को पड़ा देखा तो उसने समझा कि उनका एक्सीडेंट हो गया है। इस पर उसने रंजीत के बड़े भाई प्रदीप बेज को फोन कर बताया कि उनके भाई का एक्सीडेंट हो गया है। प्रदीप मौके पर पहुंचे तो फौरन रंजीत को टीएमएच ले जाया गया। बाद में पता चला कि उसेे गोली मारी गई है। 

पिछले साल हुई थी रंजीत की शादी 

आनंदपुर में गल्ले की दुकान चलाने वाले कैलाश बेज के तीन बच्चों में मंझले रंजीत बेज की शादी पिछले साल ही हुई थी। उनके चार महीने की एक बेटी है। घटना के बाद से पत्नी मौसमी बेज का रो रो कर बुरा हाल है। मासूम बेटी टुकुर टुकुर अपनी रोती हुई मां का चेहरा देखती है। उस मासूम को क्या पता कि उस पर क्या मुसीबत गुजरी है। 

सिर में मारी गई थीं तीन गोलियां 

रंजीत को तीन गोलियां सिर में ही मारी गई थीं। इससे साफ है कि हमलावरों की संख्या दो या तीन के आसपास रही होगी। आदित्यपुर थाना प्रभारी सुषमा कुमारी का कहना है कि वो मामले की तफ्तीश कर रही हैं। तीन लोगों को पूछताछ के लिए उठाया गया है। रंजीत के कार्यालय में काम करने वाले एक युवक को भी उठा कर पूछताछ की जा रही है। जल्द ही पुलिस हत्यारोपितों का पता लगा लेगी। 

  शानबाबू हत्याकांड के मुख्य आरोपी संतोष का था दोस्त

 जमीन के कारोबार से जुड़ा रंजीत कांग्रेस नेता शानबाबू उर्फ बुद्धेश्वर मुखी हत्याकांड के मुख्य अभियुक्त जमशेदपुर के बागुनहातु निवासी संतोष थापा का दोस्त बताया जा रहा है। पुलिस इस एंगल से भी घटना की तफ्तीश कर रही है। 15 जून 2016 को आदित्यपुर में शानबाबू की धीरागंज की जमीन के विवाद में तब गोली मार कर हत्या कर दी गई गई जब वो सुबह मार्निंग वाक पर निकले थे। इस मामले में गिरफ्तार हुए छोटू राम ने पुलिस को बताया था कि हत्या के लिए संतोष थापा ने उसे एक लाख रुपये की सुपारी दी थी। 

 जमीन से मामलों की पड़ताल कर रही पुलिस

रंजीत हत्याकांड की तफ्तीश में जुटी पुलिस को पता चला है कि हत्या की ये घटना जमीन कारोबार से जुड़े लोगों ने ही कराई है। इस पर पुलिस रंजीत के जमीन के सौदों की पड़ताल कर रही है। रंजीत के दफ्तर में इधर बीच कौन-कौन लोग आ रहे थे। किन लोगों से जमीन के सौदे को लेकर विवाद चल रहा था। 

Posted By: Vikas Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस