जमशेदपुर (जागरण संवाददाता)। टाटानगर स्टेशन में शनिवार को कोरोना वायरस के संदेह में तीन यात्रियों को रोका गया। स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर एक पर लगे कोरोना हेल्प डेस्क में बैठे सिविल डिफेंस के अधिकारियों ने तीनों यात्रियों की बारी बारी से पूछताछ की। तीनों यात्री खांस रहे थे।

उनके सिमटम्‍स की जांच की। यात्री द्वारा बताए गए सिमटम का मिलान कोरोना वायरस के सिमटम से नहीं हो रहा था, जिसके बाद यात्री का नाम व पता नोट कर उसे स्टेशन से जाने दिया। तीनों यात्री संबलपुर से टाटानगर आए थे। इन यात्रियों का नाम व पता नोट कर लिया गया है अब इन यात्रियों  पर 14 दिनों तक गुप्त रुप से नजर रखी जाएगी। 

विदेश से आने वाले यात्रियों पर नजर

टाटानगर स्टेशन में सिविल डिफेंस की टीम वैसे यात्रियों पर नजर गड़ाए बैठी है जो विदेश यात्रा के बाद टाटानगर स्टेशन पहुंच रहे है। टीम द्वारा यात्रियों के बैग व लगेज पर अगर सील देख रहे हैैं तो उसे तुरंत रोका जा रहा है और उससे पूछताछ की जा रही है। अगर पूछताछ में यात्री खुद को विदेश से लौटने की बात कह रहा है तो संदेह के आधार पर पूछताछ शुरू कर रहे है। 

संदिग्‍ध मिलने पर डा. महंता करेंगे जांच

टाटानगर स्टेशन में अगर कोई कोरोना वायरस का संदेही मिलता है तो उसकी जांच रेलवे अस्पताल के डा. राजू महंथा द्वारा किया जाएगा। संदेही मरीज के पहेले टाटानगर स्टेशन के ही रिटायङ्क्षरग रुम में बने बेड में रखा जाएगा। जहां जांच करने के बाद गंभीर समस्या होने पर उसे तुरंत रेलवे अस्पताल भेजा जाएगा। जहां जांच की  पूरी प्रक्रिया शुरू की जाएगी।

एक दिवसीय प्रशिक्षण दिया गया सिविल डिफेंस को

कोरोना वायरस के संदेही की पहचान करने के लिए डाक्टरों की टीम ने सिविल डिफेंस की 12 सदस्यीय टीम को एक दिवसीय प्रशिक्षण दिया है। प्रशिक्षण के बाद टाटानगर स्टेशन में 24 घंटे के लिए तीन शिफ्ट में सिविल डिफेंस के सदस्य काम कर रहे हैैं।  

Posted By: Vikas Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस