जमशेदपुर, जासं। स्वीटजरलैंड से वर्ल्ड इकॉनोमी फोरम द्वारा गुरुवार को जारी पॉजिटिव इंपैक्ट रेटिंग में सर्वोच्च रैकिंग यानि टॉप फाइव लेवल में भारत के तीन बिजनेस मैनेजमेंट स्कूल को जगह मिली है। टॉप फाइव लेवल के बी-स्कूल में चार में से तीन भारत के ही हैं।

इस तरह से भारत ने मैनेजमेंट के क्षेत्र में विश्व में अपनी अमिट छाप छोड़ दी है। भारत के तीन जिन बिजनेस स्कूल को जगह मिली है उनके गोवा इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट, एसपी जैन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट एंड रिसर्च तथा एक्सएलआरआइ जमशेदपुर शामिल है। एक्सएलआरआइ पिछले वर्ष लेवल तीन पर था। इस रेटिंग को पाने के लिए चार महाद्वीप और 21 देशों में स्थित 47 बिजनेस स्कूल के 9 हजार छात्रों ने भाग लिया। संयुक्त राष्ट्र ग्लोबल कॉम्पैक्ट स्विट्जरलैंड के कार्यकारी निदेशक एंटोनियो हॉल्ट ने कहा कि व्यापार अच्छी शिक्षा के लिए एक ताकत हो सकता है, जब यह उन छात्रों द्वारा मजबूत किया जाता है जो अगली पीढ़ी के बिजनेस लीडर हैं। पीआईआर जिम्मेदार प्रबंधन शिक्षा को प्राथमिकता देने के लिए बिजनेस स्कूलों का समर्थन करता है।

पीआइआर रेटिंग में एक्सएलआइ टॉप फाइव लेवल में पहुंचा

एक्सएलआरआइ-जेवियर स्कूल ऑफ मैनेजमेंट, जमशेदपुर का पॉजिटिव इंपैक्ट रेटिंग (पीआइआर-2021) के दूसरे संस्करण का परिणाम वर्ल्ड इकोनामी फोरम से शुक्रवार को जारी किया गया। जारी परिणाम के अनुसार एक्सएलआआइ टॉप फाइव लेवल (पायनियरिंग बिजनेस स्कूल) के सर्वोच्च स्तर पर पहुंच गया है। एक्सएलआरआइ दुनिया का एकमात्र बिजनेस स्कूल है जो एक साल के भीतर लेवल थ्री (प्रगतिशील स्कूल) से सबसे ऊपर के लेवल 5 (पायनियरिंग बिजनेस स्कूल) में चला गया है।

क्या है पॉजिटिव इंपैक्ट रेटिंग

पीआइआर छात्रों और छात्रों के लिए एक रेटिंग है, जो बिजनेस स्कूलों के सकारात्मक प्रभाव को मापता है। बिजनेस स्कूल और इसकी संस्कृति को सक्रिय करके सामाजिक चुनौतियों को हल करने में कैसे योगदान देता है। यह बिजनेस स्कूलों की बड़ी भूमिका, बिजनेस स्कूलों के व्यापार और अर्थव्यवस्था में उनके योगदान से परे सकारात्मक प्रभाव को संबोधित करता है।

रेटिंग पर दुनिया भर के छात्रों ने रखे विचार

छात्रों ने रचनात्मक टिप्पणियों के माध्यम से यह बताया कि कैसे उनके स्कूल उनके सकारात्मक प्रभाव को बढ़ा सकते हैं। छात्रों ने बताया कि उनके स्कूल को क्या बंद करना चाहिए।

छात्रों ने छह बिंदुओं में जवाब भी दिया

1. अर्थशास्त्र और व्यवसाय के पुराने सिद्धांतों और मॉडलों को पढ़ाना

2. परिसर में सिंगल यूज प्लास्टिक का उपयोग करना

3. स्थिरता में ज्ञान, अनुभव या जुनून के बिना कर्मचारियों को नियुक्त करना

4. परिसर में सतत भोजन और खानपान सेवाएं

5. ऐसी प्रथाएं जो कचरा पैदा करती रहती हैं

6. अनिवार्य स्थिरता पाठ्यक्रम के बिना डिग्री प्रदान करना।

छात्रों ने सुझाव दिया कि स्कूल को क्या करना चाहिए

1. अर्थशास्त्र और व्यवसाय को पढ़ाने के मूल में स्थिरता रखना

2. व्यावहारिक स्थिरता दक्षता प्रदान करना

3. पाठ्यक्रमों, परियोजनाओं और करियर विकल्पों के लिए एनपीओ के साथ जुड़ना

4. स्थानीय और वैश्विक समुदायों के साथ सामाजिक प्रभाव पहल बनाना

5. स्थिरता के लिए कार्य करने के लिए छात्रों को सशक्त बनाना और उनका समर्थन करना

6. सभी बी-स्कूल कर्मचारियों को सस्टेनेबिलिटी विषयों में शिक्षित करना।

  • हमें यह जानकर खुशी हो री है कि एक्सएलआरआइ ने पीआइआर रिपोर्ट 2021 के दूसरे संस्करण में 47 प्रमुख ग्लोबल बिजनेस स्कूलों में सबसे शीर्ष स्तर पांच (पायनियरिंग बिजनेस स्कूल) प्राप्त किया है। पीआईआर रेटिंग हमें अपने विजन और मिशन को प्राप्त करने की दिशा में और अधिक लगन से काम करने के लिए प्रेरित करती है।

    - फादर पॉल फर्नांडीस, एसजे, निदेशक, एक्सएलआरआई-जेवियर स्कूल ऑफ मैनेजमेंट।

  • दुनिया भर में मिलेनियल बी-स्कूल के छात्रों को अपने स्वयं के बिजनेस स्कूलों का मूल्यांकन करने का एक अनूठा अवसर मिला है कि यह कैसे सामाजिक और टिकाऊ चुनौतियों को हल कर रहा है, और वे बड़े पैमाने पर समुदाय और समाज पर अपने संस्थान के सकारात्मक प्रभाव को कैसे समझते हैं।

    - सुनील वर्गीस, चीफ ब्रांड एंड सस्टेनेबिलिटी ऑफिसर, एक्सएलआरआइ।

 

Edited By: Rakesh Ranjan