जमशेदपुर, जासं। यह शहर अपनी विशेष पहचान रखता है, एक अपील होते ही लोग लक्ष्य को पूरा करने के लिए दौड़ पड़ते हैं। ऐसी ही मिसाल टाटा स्टील के कर्मचारी चंदन कुमार ने बनाई है। कोरोना संक्रमण से मुक्त होने के बार उन्होंने चौथी बार प्लाज्मा दान किया। इसके लिए रेडक्रास ने उन्हें सम्मानित किया है।

रेडक्रास के मानद सचिव विजय कुमार सिंह ने बताया कि जमशेदपुर ब्लड बैंक में शुक्रवार को कोविड-19 मरीजों के लिए उपयोगी प्लाज्मा दान के इच्छुक लोगों ने रक्त का नमूना दिया था। ये कोविड-19 से मुक्त हो चुके हैं और उनके प्लाज्मा में पर्याप्त एंटीबॉडी कोविड-19 के खिलाफ उपलब्ध है। इसमें दो प्लाज्मा डोनर, जिनमें टाटा स्टील कर्मी चंदन कुमार और आईटी कंपनी एचपी के रवि कुमार सिंह ने शनिवार को अपना प्लाज्मा दान किया। जमशेदपुर ब्लड बैंक में प्लाज्मा डोनर्स का उत्साह बढाने के लिए जमशेदपुर ब्लड बैंक के प्रशासक संजय चौधरी, रेडक्रास के मानद सचिव विजय कुमार सिंह, चिकित्सक डा. एलबी सिंह व रेडक्रास के प्लाज्मा डोनर प्रभारी प्रभुनाथ सिंह उपस्थित थे। प्लाज्मा दानकर्ताओं को जिला प्रशासन व रेडक्रास की तरफ से सम्मान पत्र तथा जमशेदपुर ब्लड बैंक की ओर से स्मृति चिह्न प्रदान किया गया।

शशिकांत सिंह ने चौथी बार एसडीपी दान किया

आईटी कंपनी एचपी के रवि कुमार सिंह ने शनिवार को अपना प्लाज्मा दान किया।

इसी क्रम में सिंगल डोनर्स प्लेटलेट की जरूरत पड़ने पर शशिकांत सिंह ने चौथी बार एसडीपी दान किया। जिला के उपायुक्त सह अध्यक्ष रेडक्रास सोसाइटी, पूर्वी सिंहभूम सूरज कुमार ने आम लोगों, विशेषकर युवाओं से अपील की है कि वे अपने घर के बुजुर्गों एवं बीमार लोगों के स्वास्थ्य का ध्यान रखते हुए कोविड-19 को रोकने के लिए अनुकुल व्यवहार करें, जिससे उनके साथ परिवार के अन्य सदस्य भी सुरक्षित हो सकें। कुमार ने प्लाज्मा डोनर्स का आभार जताते हुए कहा कि जमशेदपुर शहर में रक्तदान एक परंपरा है। इसी कारण कठिन परिस्थितियों में कोरोना से जीतने वाले योद्धाओं के दान से कोरोना प्रभावित कई लोगों को नया जीवन मिला। उन्होने कोरोना की दूसरी लहर को रोकने के लिए सम्मिलित प्रयास का आह्वान किया है।

केसर देवी की स्मृति में आज से नेत्र चिकित्सा शिविर

रेडक्रास सोसाइटी, पूर्वी सिंहभूम व राम मनोहर लोहिया नेत्रालय द्वारा चिमनलाल भालोटिया सेवा संस्थान, राजस्थान सेवा सदन तथा जिला ग्रामीण स्वास्थ्य समिति के सहयोग से शनिवार से केसर देवी पटवारी की पुण्यस्मृति में प्रीति अग्रवाल के संयोजन में नेत्र शिविर शुरू होगा। इसके तहत शनिवार को रजिस्ट्रेशन के साथ नेत्र रोगियों की आंखों की जांच की जाएगी तथा मोतियाबिंद ग्रस्त नेत्र रोगियों का चयन किया जाएगा। चार अप्रैल को आपरेशन के लिए चयनित नेत्र रोगियों का आपरेशन व लेंस प्रत्यारोपण नेत्र चिकित्सक डा. बीपी सिंह, डा. पूनम सिंह, डा. भारती शर्मा, डा. विवेक केडिया व उनकी सहयोगी चिकित्सीय टीम द्वारा किया जाएगा। रेडक्रास के मानद सचिव विजय कुमार सिंह ने बताया कि पांच अप्रैल को नेत्र रोगियों की आंखों की पट्टी खोलकर अंतिम जांच की जाएगी। इसके बाद आवश्यक दवा व चश्मा प्रदान कर नेत्र रोगियों को विदा किया जाएगा।

Edited By: Rakesh Ranjan