जमशेदपुर, जासं।  नेशनल कंपनी लॉ अपीलेट ट्रिब्यूनल (एनक्लैट) से आदेश आने के बाद टाटा संस के चेयरमैन एन चंद्रशेखरन ने समूह के सभी कर्मचारियों के नाम पत्र जारी कर अपनी बात रखी है। चेयरमैन ने अपने पत्र की शुरुआत प्रिय साथियों से की है। 

तीन भाषाओं में जारी (ि‍हंदी, अंग्रेजी व उडिय़ा) पत्र में कहा है कि एनक्लैट से आए आदेश की जानकारी सभी कर्मचारियों को मिल ही चुकी होगी। इस आदेश में अन्य चीजों के अलावा टाटा संस के एक्जीक्यूटिव चेयरमैन के रूप में मेरी नियुक्ति को भी उठाया गया है। टाटा संस इस मामले में अपने पक्ष पर दृढ़तापूर्वक विश्वास रखता है। इस मामले में हम उचित कानूनी सहयोग से आगे की ओर बढ़ रहे हैं। बुधवार को नेशनल कंपनी लॉ अपीलीएट ट्रिब्यूनल ने एन चंद्रशेखरन की नियुक्ति को अवैध करार देते हुए पूर्व चेयरमैन सायरस मिस्त्री को पुन: बहाल करने का आदेश जारी किया था। 
चंद्रशेखरन ने पत्र में कहा है कि फरवरी 2017 में मुझे एक्जीक्यूटिव चेयरमैन का पद संभालने की जिम्मेदारी मिली। इसके बाद मैंने सभी कर्मचारियों से व्यक्तिगत संपर्क स्थापित करने का प्रयास किया। नई जिम्मेदारी संभालने के बाद हमारा मुख्य उद्देश्य समूह में स्थिरता बहाल रखने और स्वस्थ वित्तीय स्थिति की ओर दृढ़ता से आगे बढऩा था। इसके साथ ही हमने संस्थान के 150 वर्षों की गरिमा और उच्चतम नैतिक मानकों के साथ अपने व्यवसाय का परिचालन करने, सभी प्रतिबद्धताओं का सम्मान करने और लंबित मामलों को हल करते हुए भविष्य के लिए व्यवसाय में बदलाव को केंद्र में रखा। 
चेयरमैन ने अपने सभी कर्मचारियों को विश्वास दिलाते हुए कहा है कि हमने खुद को ऐसी दिशा में स्थापित किया है, जो टाटा समूह को पहले से कहीं अधिक मजबूत और जीवंत बनाएगा। चेयरमैन ने सभी कर्मचारियों से अपील की है कि वे पूर्व की तरह अपना कामकाज करते रहें और हितधारकों के कल्याण पर ध्यान केंद्रित करें। उन्होंने कर्मचारियों को विश्वास जताया है कि हम इस अनूठे प्रतिष्ठान की विरासत को मजबूत करने की दिशा में लगातार काम करते रहेंगे। 
 

Posted By: Rakesh Ranjan

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस