जमशेदपुर। देश की सबसे बड़ी निजी क्षेत्र की एकीकृत कंपनियों में से एक टाटा पावर के पास अब पूरे देश में 1000 से अधिक इलेक्ट्रिक वाहन (ईवी) चार्जिंग स्टेशनों का नेटवर्क है। जमशेदपुर में चार जगहों पर ईवी चार्जिंग स्टेशन लगाए गए हैं।

ऑफिस से लेकर मॉल में लगे चार्जिंग स्टेशन

1000 सार्वजनिक ईवी चार्जिंग स्टेशनों का यह नेटवर्क टाटा पावर के ग्राहकों के लिए कार्यालयों, मॉल, होटलों, रिटेल आउटलेट्स और सार्वजनिक जगहों पर निर्बाध ईवी चार्जिंग सर्विस दे रही है। इसके अलावा, करीब 10,000 होम ईवी चार्जिंग प्वाइंट हैं, जो वाहन मालिकों के लिए ईवी चार्जिंग को सुविधाजनक बनाते हैं।

होम चार्जर भी उपलब्ध करा रहा टाटा पावर

टाटा पावर ईजी चार्जर्स इको सिस्टम सार्वजनिक चार्जर्स, कैप्टिव चार्जर्स, बस/फ्लीट चार्जर्स और होम चार्जर्स की सीरीज को कवर करता है। मुंबई में स्थापित किए जा रहे पहले चार्जर से शुरू होकर, टाटा पावर ईवी चार्जिंग प्वाइंटअब लगभग 180 शहरों में और विभिन्न व्यावसायिक मॉडल और बाजार क्षेत्रों के तहत कई राज्य और राष्ट्रीय राजमार्गों में मौजूद हैं। कंपनी 10,000 और चार्जिंग स्टेशनों का आधार बनाने की योजना बना रही है और साथ ही पूरे देश में राजमार्गों के पूरे हिस्सों को ई-हाईवे में सक्षम करने की भी योजना बना रही है।

ग्रीन मोबिलटी का राष्ट्रीय लक्ष्य पर नजर

टाटा पावर के एमडी व सीईओ डॉ. प्रवीर सिन्हा ने कहा कि हमने पब्लिक डोमेन में 1000 से अधिक ईवी चार्जिंग पॉइंट्स लगाए हैं, जो देश में ईवी क्रांति लाने में मील का पत्थर साबित होगा। हमारे अभिनव और सहयोगात्मक दृष्टिकोण ने इस इको सिस्टम को विकसित करने और देश में ईवी अपनाने को प्रोत्साहित करने में महत्वपूर्ण प्रभाव डाला है। हम ग्रीन मोबिलिटी में राष्ट्रीय लक्ष्य को प्राप्त करने में अन्य हितधारकों के साथ एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

टाटा पावर ने ओईएम से किया गठजोड़

टाटा पावर ने ईवी चार्जिंग इंफ्रास्ट्रक्चर को रोल आउट करने के लिए ओरिजिनल इक्विपमेंट मैन्युफैक्चरर्स (ओईएम) के साथ गठजोड़ किया है और इसका लक्ष्य भारत के कई शहरों में अपनी उपस्थिति का विस्तार करना है। इसने अपने ग्राहकों और डीलरों के लिए ईवी चार्जिंग इंफ्रास्ट्रक्चर विकसित करने के लिए टाटा मोटर्स लिमिटेड, एमजी मोटर्स इंडिया लिमिटेड, जगुआर लैंड रोवर, टीवीएस और अन्य के साथ साझेदारी की है।

कई राज्य परिवहन उपयोगिताओं के साथ साझेदारी ई-बस चार्जिंग की सुविधा प्रदान करती है, जिससे हरित सार्वजनिक परिवहन को बढ़ावा मिलता है। टाटा पावर ईवी चार्जिंग इंफ्रास्ट्रक्चर (ईवीसीआई) विकसित करने के लिए आईओसीएल, एचपीसीएल, आईजीएल, एमजीएल और कई राज्य सरकारों के साथ सक्रिय रूप से सहयोग करता है।

इलेक्ट्रिक बाइक में टीवीएस मोटर अग्रणी

इलेक्ट्रिक वाहन अपनाने में वृद्धि के साथ, कंपनी ने इलेक्ट्रिक 3-व्हीलर और 2-व्हीलर चार्जिंग मार्केट में भी अपने फुटप्रिंट का विस्तार किया है। इस महीने की शुरुआत में, टाटा पावर और टीवीएस मोटर कंपनी, जो दुनिया भर में दोपहिया और तिपहिया वाहनों के अग्रणी निर्माताओं में से एक है, ने भारत भर में ईवीसीआई के व्यापक कार्यान्वयन को चलाने और टीवीएस मोटर स्थानों पर सौर ऊर्जा प्रौद्योगिकियों को तैनात करने के लिए एक रणनीतिक साझेदारी पर हस्ताक्षर किया है।

एचपी के पेट्रोल पंप में होंगे चार्जिंग स्टेशन

साझेदारी का उद्देश्य भारत में इलेक्ट्रिक मोबिलिटी में तेजी लाने के लिए एक बड़ा समर्पित इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर चार्जिंग इंफ्रास्ट्रक्चर बनाना है। कंपनी द्वारा हाल ही में की गई कुछ घोषणाओं में एचपीसीएल के साथ अपने रिटेल आउटलेट्स पर एंड टू एंड ईवी चार्जिंग स्टेशन और मुंबई में अपनी वाणिज्यिक और आवासीय परियोजनाओं में स्टेशनों के लिए लोढ़ा समूह के साथ शामिल हैं।

आवासीय चार्जिंग के लिए लोढ़ा समूह से किया अनुबंध

जुलाई 2021 में, टाटा पावर और हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (HPCL) ने कई शहरों और प्रमुख राजमार्गों में HPCL के रिटेल आउटलेट्स (पेट्रोल पंप) पर एंड-टू-एंड EV चार्जिंग स्टेशन प्रदान करने के लिए हाथ मिलाया। इसी तरह, कंपनी ने मुंबई महानगर क्षेत्र (एमएमआर) और पुणे में अपनी सभी आवासीय और वाणिज्यिक परियोजनाओं में एंड-टू-एंड ईवी चार्जिंग समाधान प्रदान करने के लिए सबसे बड़े रियल एस्टेट डेवलपर्स में से एक लोढ़ा समूह के साथ गठजोड़ किया है। टाटा पावर ने ईवी चार्जिंग के ग्राहकों के लिए एक मजबूत सॉफ्टवेयर प्लेटफॉर्म भी विकसित किया है और अपने उपभोक्ताओं को एक सरल और आसान चार्जिंग अनुभव देने के लिए एक मोबाइल-आधारित एप्लिकेशन (टाटा पावर ईजेड चार्ज) जारी किया है।

ईवी चार्जिंग ऐप से करना होगा भुगतान

ऐप ईवी चार्जिंग स्टेशनों का पता लगाने, ईवी चार्ज करने और बिल भुगतान ऑनलाइन करने में मदद करता है। राष्ट्रीय स्तर पर टाटा पावर ने 2050 से पहले कार्बन तटस्थता प्राप्त करने के लिए प्रतिबद्ध है। कंपनी इस दिशा में विज्ञान आधारित लक्ष्य पहल (SBTi) के सा अपने प्रयासों को उत्सर्जन में कमी के लक्ष्य निर्धारित करने की प्रतिबद्धता के साथ बढ़ रही है।

Edited By: Jitendra Singh