जमशेदपुर, जासं। कोविड 19 को देखते हुए टाटा समूह ने अपने सभी कंपनियों और संस्थानों को देशवासियों की मदद करने काे कहा है। इसके लिए उन्हें नो लिमिट का मंत्र भी दिया है यानि जरूरी संसाधन जुटाने में पैसों की चिंता न करे। इसके बाद से टाटा समूह की कई कंपनियां देश भर में आक्सीजन कंटेनर, कोविड अस्पताल सहित लिक्विड मेडिकल आक्सीजन की व्यवस्था कर रही है।

देश में इन दिनों आक्सीजन सहित दूसरे जरूरी उपकरणों की कालाबाजारी हो रही है। उसे दोगुने से भी ज्यादा कीमत पर बेचा जा रहा है। ऐसे में टाटा समूह की एक संस्था कोविड मरीजों की जान में बचाने में मदद कर रही है। इसी कड़ी में टाटा मेमोरियल सेंटर (टीएमसी) के एटॉमिक एनर्जी विभाग ने उत्तर प्रदेश के वाराणसी जिला प्रशासन को 92 आक्सीजन कंसट्रेटर उपलब्ध कराया है। अभी तक टाटा मेमोरियल सेंटर ने अलग-अलग चरण में 150 कंसट्रेटर जिला प्रशासन को उपलब्ध कराने का निर्णय लिया है।

जिला प्रशासन को कुल 150 कंसट्रेटर देने की तैयारी

आपको बता दें कि टाटा मेमोरियल सेंटर वाराणसी में दो कैंसर अस्पताल का संचालन करता है। इसमें होमी भाभा कैंसर अस्पताल (एचबीसीएच) व महामना पंडित मदन मोहन मालवीय कैंसर सेंटर (एमपीएमएमसीसी) शामिल है। 19 फरवरी 2019 को इन दोनों यूनिट का उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया था। दोनों संस्थानों के निदेशक डा. सत्यजीत प्रधान ने वाराणसी के मंडल आयुक्त दीपक अग्रवाल को सभी कंसट्रेटर को हैंडओवर किया। इस मौके पर संस्थान के मुख्य प्रशासनिक अधिकारी माधो सिंह, उप निदेशक डा. बीके मिश्रा व सहायक मेडिकल ऑफिसर डा. आकाश आनंद भी उपस्थित थे। संस्थान के प्रवक्ता अखिलेश पांडेय ने बताया कि टाटा मेमोरियल सेंटर मुंबई से सभी कंसट्रेटर को भेजा गया है। उन्होंने बताया कि जल्द ही 58 और कंसट्रेटर वाराणसी जिला प्रशासन को सौपा जाएगा। हम जिला प्रशासन को कुल 150 कंसट्रेटर देने की तैयारी कर रहे हैं।

गंभीर मरीजों को समय पर आक्सीजन देने में मदद

वहीं, इस मौके पर मंडल आयुक्त दीपक अग्रवाल ने कहा कि टाटा मेमोरियल सेंटर द्वारा आक्सीजन कंटेनर मिलने से कोविड 19 के गंभीर मरीजों को समय पर आक्सीजन देने में मदद मिलेगी। उन्होंने बताया कि डीआरडीओ की ओर से कोविड अस्पताल एसएसएच व होमी भाभा कैंसर सेंटर सहित दूसरे सरकारी अस्पतालों में कोविड मरीजों के इलाज व उन्हें आक्सीजन की व्यवस्था करने में सहयोग कर रही है। हमें उम्मीद है कि जल्द ही स्थिति में सुधार होगा। उन्होंने बताया कि जौनपुर, गाजीपुर, बरेली, चंदौली सहित उन सभी जिलों में कंसट्रेटर भेजा जाएगा, जहां इसकी सबसे ज्यादा जरूरत है।