जमशेदपुर, जासं। देश में कोविड 19 के दूसरे वेब के कारण जिस तेजी से संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ी है। उसे देखते हुए टाटा समूह एक्शन मोड में आ चुका है। समूह पहले ही अपने अधिकारियों को जरूरी संसाधन जुटाने के लिए नो लिमिट का मंत्र दे चुका है यानि देशवासियों की जान बचाना जरूरी, पैसों की कोई चिंता नहीं।

वर्तमान स्थिति को देखते हुए टाटा समूह 60 क्रायोजेनिक ऑक्सीजन टैंकरों को विदेशों से एयर लिफ्ट करा रहा है। इनमें से 14 अब तक देश पहुंच चुके हैं जबकि कुछ अभी रास्ते में हैं। टाटा समूह ने इसके लिए केंद्र सरकार और भारतीय वायुसेना के प्रति आभार व्यक्त किया है जिनकी मदद से इन टैंकरों को समय पर देश में लाया गया। वहीं, टाटा समूह ने लिंडे इंडिया के प्रति भी आभार जताया है जो उन्हें इस काम में सहयोग कर रही है। टाटा समूह का कहना है कि इस वैश्विक महामारी के समय हम जिम्मेदार कॉरपोरेट कंपनी के रूप में अपनी सेवा देने के लिए तैयार हैं। हम किसी भी समस्या का सामना करते हुए उसका समाधान करने के लिए पूरी तरह से तैयार हैं।

400 ऑक्सीजन जनरेट यूनिट बना रहा है समूह

टाटा समूह को इस बात का एहसास हो चुका है कि देश के कई छोटे शहरों में संचालित अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी है जिसके कारण लोगों की जान जा रही है। इसे देखते हुए टाटा समूह ने डीआरडीओ के साथ मिलकर देश के 400 शहरों में ऑक्सीजन जनरेट यूनिट तैयार करेगा। इसकी क्षमता 1000 लीटर प्रति मिनट की होगी। यानि इस तरह के संसाधन तैयार होने पर किसी भी अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी से किसी मरीज की मौत नहीं होगी। इस काम में टाटा समूह की विभिन्न कंपनियों के 80 से 90 तकनीकि विशेषज्ञ काम कर रहे हैं।

तैयार कर रहा है 5000 बेड

दूसरे वेब के बाद तीसरे वेब की भी आने की संभावना है। ऐसे में टाटा समूह इसके लिए पहले से तैयारी कर रहा है और देश भर में 5000 ऑक्सीजन युक्त बेड तैयार कर रहा है। टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज ने देश के 16 शहरों में 100-100 बेड का अस्पताल तैयार कर लिया है। जहां ऑक्सीजन सहित सभी जरूरी उपकरण मौजूद होंगे।

होटलों को बदल रही है कोविड वार्ड में

टाटा समूह  बेड की समस्या को देखते हुए अपने सभी होटलों को कोविड वार्ड के रूप में परिवर्तित कर रहा है ताकि इलाज के अभाव में किसी की मौत नहीं हो। इसके साथ ही होटल के कर्मचारियों को कोविड मरीजों की देखभाल के लिए भी प्रशिक्षित किया जा रहा है।

कर्मचारियों को कर रहा है प्रशिक्षित

टाटा समूह ऑनलाइन माध्यम से अपने कई कर्मचारियों को कोविड 19 महामारी में किस तरह से दूसरे मरीजों की मदद कर सकते हैं। इस संबंध में ऑनलाइन ही प्रशिक्षित कर रही है ताकि जरूरत पड़ने पर इन कर्मचारियों को संक्रमित मरीजों की मदद के लिए लगाया जा सके। इस दौरान उन्हें यह भी बताया जा रहा है कि उन्हें किस तरह से पीपीई किट पहनना है और किस तरह से बिना संक्रमित हुए मरीजों की मदद करना है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप