जमशेदपुर (जेएनएन)। राष्ट्रव्यापी मजदूर हड़ताल में डाक कर्मचारियों के भी शामिल होने से बुधवार को डाक विभाग का सारा काम-काज प्रभावित रहा। सुबह में कई लोग डाकघर पहुंचे भी लेकिन बंद होने की वजह से उन्हें निराशा ही लौटना पड़ा।

इधर, बिष्टुपुर स्थित प्रधान डाकघर के आगे सैकड़ों की संख्या में कर्मचारी एकजुट होकर प्रदर्शन कर रहे थे। कर्मचारियों की मांग है कि नए पेंशन स्कीम को समाप्त कर पुराने पेंशन स्कीम को लागू किया जाए। निजीकरण प्रक्रिया को अविलंब समाप्त किया जाए। एमएसीपी के मानकों में वेरी गुड की प्रक्रिया अविलंब समाप्त की जाए। अनुकंपा के अधार पर शत फीसद बहाली की जाए और रिक्त पदों पर तत्काल बहाली निकाला जाए। इस हड़ताल में एफएनपीओ ग्रुप सी, पोस्टमैन एमटीएस एंव जीडीएस एनएफपीई ग्रुप सी, पोस्टमैन एमटीएस एवं जीडीएस व अखिल भारतीय पोस्टल पेंशनर्स एसोसिएशन शामिल रहा। ग्रुप सी के प्रमंडलीय सचिव पुरुषोत्तम सिंह ने बताया कि कोल्हान के सभी प्रमुख डाकघर व उप-डाकघर बंद रहा।

कोल्हान में 69 उप-डाकघर व दो प्रधान डाकघर संचालित है। वहीं रत्नेश रत्न ने बताया कि बंदी की वजह से डाकघर में करीब 40 करोड़ का कारोबार प्रभावित होने का अनुमान है। न तो किसी तरह का पार्सल भेजा गया और न ही कोई पैसा जमा व निकाल सका। इस अवसर पर श्यामाकांत महतो, रणवीर सिंह, चंडी चरण साधु, परवेज आलम अंसारी, अजीत राम, अरुण कुमार तिवारी, सुभाष महतो, जे. भट्टïाचार्य, अरुण तिवारी, सुभाष चंद्र महतो, श्यामाकांत महतो, कृष्ण मोहन प्रसाद, विनोद कुमार, हरिवंश कुमार, नवल किशोर, राजेंद्र राम, कुन्नू पात्र, जगदेव प्रसाद उपस्थित थे।   

आयकर कर्मचारी भी रहे हड़ताल पर, लगाए नारे 

आयकर कर्मचारी महासंघ भी बुधवार की राष्ट्रव्यापी मजदूर हड़ताल में शामिल हुआ। सीएच एरिया स्थित आयकर कार्यालय के समक्ष कर्मचारियों ने दस सूत्री मांगपत्र के साथ धरना-प्रदर्शन किया, जिसमें ग्रुप-सी व डी के करीब 85 कर्मचारी शामिल रहे।

हड़ताल का नेतृत्व आयकर कर्मचारी महासंघ के जमशेदपुर सचिव अविनाश कुमार व अध्यक्ष नरेंद्र कर्ण ने किया, जबकि इसे सफल बनाने में बिहार-झारखंड के प्रदेश उपाध्यक्ष व संगठन सचिव मनोज कुमार व संतोष कुमार चौबे ने दिया। महासंघ की वित्त सचिव नीलिमा भगत, पूर्व सचिव प्रवीण चौहान व मनोज सिन्हा, सुनील कुमार, अजित कुमार, बलराम हांसदा, अनीता कुमारी, संतोष राय, रामजी विश्वकर्मा, विपिन सिंह, प्रीतम सिंह, बलिराम मंडल, सुरेश पंडित, राजेश श्रीवास्तव, अनुभव मिश्र, सुमित कुमार, मनीष कुमार, राजू रजक, पंकज कुमार, अमित कुमार, शशि कुमार, रंजन कुमार, नितेश श्रीवास्तव, चंदन मिश्रा, महेंद्र राणा, उत्पलकांत, रंजय कुमार, चैतन्य किस्कू, निरंजन कुमार, एनके मुंडा, सचिन कुमार आदि सक्रिय रहे। 

सरडिहा स्टेशन पर स्टील एक्सप्रेस रुकी रही डेढ़ घंटे

केंद्र सरकार की नीतियों के विरोध में बुधवार को वामपंथी श्रमिक संगठनों के देश व्यापी हड़ताल के दौरान हड़ताल समर्थकों ने बंगाल में टे्रन और बसों को रोककर यातायात बाधित किया टाटानगर स्टेशन से बुधवार की सुबह खुली टाटा-हावड़ा स्टील एक्सप्रेस का को बंद समर्थकों ने सरडिहा स्टेशन पर रोक दिया। उक्त स्टेशन में खान-पान की सुविधा नहीं होने के कारण बंद समर्थकों से यात्रियों के आग्रह करने पर करीब डेढ़ घंटे बाद ट्रेन को हावड़ा स्टेशन की ओर जाने दिया।

बुधवार की सुबह यह ट्रेन निर्धारित समय पर झाडग़्राम से रवाना हुई, लेकिन सरडिहा में इस ट्रेन को रोक दिया गया। बंद के कारण हावड़ा-खडग़पुर सेक्शन के चेंगाइल, फुलेश्वर, उलबेडिय़ा, मेचेदा तथा पांशकुड़ा आदि स्टेशनों पर हड़ताल समर्थकों ने लोकल ट्रेनों को रोका।  झाडग़्राम समेत विभिन्न स्टेशनों पर भी ट्रेनें थोड़ी-थोड़ी देर के लिए रुकी रही।

बंगाल जाने वाली 40 बस रही रद

वामपंथी श्रमिक संगठनों के देश व्यापी हड़ताल के कारण बंगाल जाने वाली करीब 40 बसों को मानगो बस स्टैैंड में ही रद कर दिया गया तो कई बसों को गंतव्य से पहले ही रास्ते में रोक कर रखना पड़ा। जो बसें रास्ते में रोक ली गई थी वैसे बसों को शाम को गंतव्य के लिए रवाना किया गया। 

 

Posted By: Vikas Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस