जागरण संवाददाता, जमशेदपुर : टेल्को आमबगान मैदान में श्री राम कथा के दूसरे दिन के महायज्ञ के दौरान पूर्वान्ह में 9:00 बजे से 17 जोड़ों ने हवन और महायज्ञ में सम्मिलित होकर यज्ञ किया। इसमें मुख्य जजमान लालबाबू सिंह और हीर मंती देवी, पप्पू सिंह, सुभाष राय और कुमुद राय, सुबोध सिंह, ऊषा सिंह, बलराम सिंह, सोनी सिंह, राजेश सिंह, ज्योति सिंह, नरेंद्र कुमार, मनोज पांडे, सुबोध सिंह आदि उपस्थित थे।

शाम में दिव्य श्री राम कथा में सुप्रसिद्ध कथावाचक गिरिधर महाराज ने दूसरे दिन की कथा में अमृत रसपान कर सारे भक्तों को झूमने पर मजबूर कर दिया और पूरे वातावरण को भक्तिमय बना दिया। दूसरे दिन बुधवार को कथा में गिरिधर महाराज ने कहा कि राम कथा जीवन जीने का रास्ता है। कथा के ही मध्य में सती का त्याग भोले बाबा ने कर दिया क्योंकि उन्होंने भोले बाबा की बात पर विश्वास नहीं किया। प्रभु श्री राम की परीक्षा लेने के लिए चली गई भोलेनाथ ने उनको जय सच्चिदानंद कहकर के प्रणाम किया, उन्होंने सोचा कि यह स्वयं त्रिलोकी के नाथ जय सच्चिदानंद के घर के प्रणाम कर रहे हैं मुझे इनकी परीक्षा लेनी चाहिए जब परीक्षा ली तो भोलेनाथ ने पूछा कि सती तुमने परीक्षा ली। सती ने उसको झूठ बोल दिया उस झूठ के कारण भोलेनाथ ने सती का त्याग कर दिया।

कथा का यह बड़ा सुंदर प्रसंग रहा और भोले बाबा का सुंदर भजन का आनंद लोगों ने लिया और आनंद में सराबोर हो कर दिव्य राम कथा का आनंद उठाया। जय श्री राम के नारे से पूरा वातावरण राममय हो गया। नारायण और नारद की सुंदर झांकी निकाली गई। इस अवसर पर आज के प्रधान सेवक के रूप में टाटा मोटर्स के एचआर हेड रवि सिंह, महामंत्री आरके सिंह, रामाश्रय प्रसाद, उमेश सिंह, रामनरेश सिंह, सुबोध सिंह, एन दास आदि ने आरती में शरीक होकर पूजन का कार्यक्रम किया।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस