जमशेदपुर, जासं। झारखंड सरकार में शासन की सर्वोच्च व्यवस्था में व्याप्त भ्रष्टाचार को उजागर करने वाली विधायक सरयू राय की अगली पुस्तक ‘रहबर की राहजनी’ बुधवार को आएगी। इससे पहले मेनहर्ट नियुक्ति घोटाला पर सरयू राय की किताब ‘लम्हों की खता’ जुलाई 2020 में प्रकाशित हुई थी।

सरयू के मुताबिक मेनहर्ट नियुक्ति घोटाला के बारे में पुस्तक में वर्णित भ्रष्टाचार के एक भी बिंदु का खंडन किसी ने नहीं किया। इस पुस्तक में वर्णित भ्रष्टाचार की घटनाओं की जांच झारखंड सरकार की संस्था एसीबी यानी एंटी करप्शन ब्यूरो कर रही है। अब रामनवमी के दिन प्रकाशित होने जा रही दूसरी पुस्तक लौह अयस्क घोटाले पर आधारित है। इसमें झारखंड में गत पांच वर्ष में हुए लौह अयस्क घोटाला के बारे में विस्तार से पूरी बात लिखी गई है।

192 पृष्ठ की इस पुस्तक का मूल्य 200 रुपये

192 पृष्ठ की इस पुस्तक का मूल्य 200 रुपये है। ऑनलाइन खरीददारों को पुस्तक मात्र 100 रुपये में उपलब्ध होगी। उम्मीद है कि ‘लम्हों की खता’ की तरह यह पुस्तक भी हाथों हाथ ली जाएगी। यह पुस्तक भी रुचिकर व उपयोगी साबित होगी और सरकार के शीर्ष पर आसीन किरदारों के असली षड्यंत्रकारी चेहरों से आपको अवगत कराएगी।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप