जमशेदपुर : किसानों के लिए खुशखबरी है। अब किसानों को छह हजार रुपये के स्थान पर डबल यानि 12000 रुपये मिलेंगे। बस करना है आपको यह काम। यदि आप पीएम किसान योजना के लाभार्थी हैं और आपको पिछली किस्त नहीं मिल पाई है तो टेंशन लेने की जरूरत नहीं है, आप आसानी से अपनी रूकी हुई किस्त की राशि पा सकते हैं। केंद्र सरकार प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत मिलने वाली रकम को दोगुना करने पर विचार कर रही है।

अब 2000 के स्थान पर मिलेंगे 4000 रुपये

किसानों के लिए खुशखबरी है। अब केंद्र की मोदी सरकार प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत मिलने वाली आर्थिक मदद को दोगुना करने पर विचार कर रही है। खबर है कि पीएम किसान योजना के तहत आने वाले किसानों को अब 2000 रुपये के स्थान पर 4000 रुपये की किस्त मिल सकती है। खबर के मुताबिक मोदी सरकार किसानों को मिलने वाली रकम को डब्ल कर सकती हे। अग ऐसा होता है तो किसानों को हर साल 6000 रुपये के स्थान पर 12000 रुपये तक तीन किस्तों में मिल सकते हैं।

केंद्रीय वित्त एवं कृषि मंत्री के साथ बिहार के कृषि मंत्री की हुई थी बात

जानकारी हो कि पिछले दिनों बिहार के कृषि मंत्री अमरेंद्र प्रताप सिंह ने हाल ही में दिल्ली में केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह ताेमर और केंद्रीय वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण से मुलाकात किया था। जिसमें पीएम किसान सम्मान निधि योजना के तहत मिलने वाली राशि को दोगुना करने पर भी चर्चा की गई। हालांकि अभी इस पर कोई फैसला नहीं किया गया है।

जानिए ऐसे उठा सकते हैं इसका लाभ

अगर आप भी पीएम किसान योजना का लाभ उठाना चाहते हैं तो उसके लिए आपको रजिस्ट्रेशन कराना होगा। इस स्कीम में रजिस्ट्रेशन कराना काफी आसान है। आप ऑनलाइन घर बैठे यह प्रोसेस पूरा कर सकते हैं। इसके अलावा पंचायत सचिव या पटवारी या स्थानीय कॉमन सर्वि स सेंटर के जरिए इस योजना के लिए अप्लाई कर सकते हैं। इसके अलावा आप खुद भी इस योजना के लिए रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं।

जानिए कैसे आती है किस्तें

किसानों के खाते में सालाना 6000 रुपये तीन किस्तों में भेजे जाते हैं। हर चार महीने में 2000 रुपये की किस्त आती है। पीएम किसान पोर्टल के मुताबिक स्कीम की पहली किस्त एक दिसंबर से 31 मार्च के बीच आती है। दूसरी किसत एक अप्रेल से 31 जुलाई के बीच किसानों के खाते में पहुंचती है। तीसरी किस्त एक अगस्त से 30 नवंबर के बीच किसानों के खाते में ट्रांसफर की जाती है।

Edited By: Jitendra Singh