जागरण संवाददाता, जमशेदपुर। गलत आवेदन भरने के कारण लाखों किसानों को प्रधानमंत्री किसान सम्मान योजना का लाभ नहीं मिल सकेगा। जानकारी हो कि पीएम किसान सम्मान योजना के तहत 13 जुलाई तक केंद्र सरकार के पास 12.30 करोड़ किसानों का आवेदन आ चुका है। जिसमें से 2.77 करोड़ किसानों के आवेदन लगत पाए गए। इन गलतियों को सुधार किया जाना है। यही नहीं लगभग 27.50 लाख किसानों के ट्रांजेक्शन फेल हो चुके हैं।

बता दें कि केंद्र सरकार पीएम किसान सम्मान निधि के तहत देश भर के किसानों को उनके खाते में सहायता सम्मान राशि दे रही है। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक अब तक देश के 11 करोड़ किसानों के बैंक खाते में मोदी सरकार की ओर से 1.35 करोड़ रुपये डाले जा चुके हैं। अब सरकार की आेर से अगस्त से नवंबर के बीच 9 वीं किस्त किसानों के खाते में डाले जाने हैं। किसानों का इसका इंतजार है।

किसानों को 9वीं किस्त मिलने में हो सकती है समस्या

पीएम किसान सम्मान निधि के तहत वैसे किसानों को किसानों को 9वीं किस्त मिलने में समस्या हो सकती है, जिनका आवेदन गलत होगी। जानकारी हो कि केंद्र सरकार के पास आए 12.30 करोड़ आवेदन में से 2.77 करोड़ आवेदन गलत पाए गए। लगभग 27.50 लाख किसानों के ट्रांजेक्शन फेल हो चुके हैं और 31.63 लाख किसानों का आवेदन पहले ही स्तर पर रद्द किया जा चुका है। जानकारी हो कि अकेले उत्तरप्रदेश के 2.84 करोड़ किसानों के डेटा में सुधार किया जाना है। झारखंड, आंध्रप्रदेश और कर्नाटक में ऐसे किसानों के अधिक आवेदन हैं जिनके आवेदन में अधिक गलतियां है।

छोटी-छोटी गलतियों के कारण आवेदन होते हैं निरस्त

किसान अपना आवेदन भरने के समय छोटी-छोटी गलतियां कर बैठते हैं। आवेदन में गलती न हो इसके लिए सबसे पहले अपना नाम अंग्रेजी में लिखें। जिन किसानों का आवेदन में नाम हिंदी में उन्हें अंग्रेजी में करना जरूरी है। इसके अलावा आवेदन में आवेदक का नाम और बैंक अकाउंट में नाम अलग-अलग है तो किस्त को रोकी जा सकती है।

सबसे जरूरी है बैंक का आईएफएससी कोड

बैंक अकाउंट नंबर और गांव के नाम लिखने में गलती हुई है तो आपकी किस्त आपके खाते में नहीं जाएगी। इसके अलावा हाल ही में जिन बैंकों का दूसरी बैंकों में विलय हुआ है, उनके आईएफएससी कोड बदल गए हैं। इसलिए आवेदक को यदि 9वीं किस्त लेना है तो अपना आवेदन को सही-सही भरें और आवेदक अपना नया आईएफएससी कोड को अपडेट कर लेना होगा।

 

Edited By: Rakesh Ranjan