Move to Jagran APP

यूसिल में फटी यूरेनियम कचरे की पाइप लाइन

-तालाब में घुसा कचरा, नहा रहे दो बच्चों की हालत बिगड़ी फोटो 13, 14 संवाद सूत्र, जादूग

By Edited By: Published: Wed, 08 Jun 2016 03:00 AM (IST)Updated: Wed, 08 Jun 2016 03:00 AM (IST)

-तालाब में घुसा कचरा, नहा रहे दो बच्चों की हालत बिगड़ी

फोटो 13, 14

संवाद सूत्र, जादूगोड़ा(पू. सिंहभूम) : भाटिन पंचायत अंर्तगत चाटीकोचा गांव के टोला टूवरडुंगरीडीह में मंगलवार को यूरेनियम कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड के जादूगोड़ा मिल से टे¨लग पौंड में जाने वाली यूरेनियम की कचरा पाइप लाइन फट गई। फलस्वरूप गांव के समीप तालाब में यूरेनियम का कचरा चला गया। इससे ग्रामीणों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा।

घटना की जानकारी होने पर यूसिल प्रबंधन ने आनन-फानन में पाइप लाइन की मरम्मत करायी। इससे पहले फटी पाइप लाइन से कचरा निकलकर तालाब की ओर बह गया। इस कारण तालाब में नहा रहे कुछ ग्रामीण इसकी चपेट में आ गए। दो बच्चों की हालत बिगड़ गई। घटना से आक्रोशित ग्रामीणों ने फटी पाइप लाइन के मरम्मत कार्य को ठप कर दिया।

गौरतलब है कि यूसिल जादूगोड़ा मिल से चाटीकोचा स्थित टे¨लग पौंड में चार पाइप लाइन के माध्यम से यूरेनियम का कचरा भेजा जाता हैं। सभी पाइप लाइन जमीन के अंदर हैं और ये टूवरडुंगरीडीह गांव के पास से होकर गुजरती हैं। मंगलवार की सुबह लगभग छह बजे चारों पाइप में लीकेज हो गया। इससे गांव के समीप यूरेनियम कचरा फैलते हुए पास के तालाब में जा गिरा। यूरेनियम कचरा की चपेट में आकर दो बच्चों को खुजली की शिकायत होने लगी। ग्रामीण उन्हें प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र ले गए।

वर्ष 2006 में सबसे बड़ी घटना हुई थी जब कई घरों मे यूरेनियम का कचरा व पानी घुस गया था। इसके बाद अप्रैल 2007, फरवरी 2008 और मार्च 2015 पाइप लाइन फट चुकी है।

--------------

घटना की जानकारी मिलते ही जादूगोड़ा मिल से जाने वाले यूरेनियम कचरा को रोक दिया गया। पाइप लाइन से वर्तमान में कोई लीकेज नहीं हो रहा है। चारों पाइप लाइन को सुरक्षा के दायरे में रखकर ही यूरेनियम कचरा को टे¨लग पौंड तक ले जाया जाता है।

-स्टेनली हेम्ब्रम, प्रवक्ता, यूसिल


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.