जमशेदपुर, जासं।  टाटा नगर रेलवे स्टेशन से गुरुवार की रात तीन साल की बच्ची का अपहरण करने के बाद उसके साथ दुष्कर्म की घटना ने शहर के लोगों को हिला कर रख दिया है। यही नहीं, बच्ची के साथ दुष्कर्म करने के बाद अपहरण करने वाले दरिंदों ने बच्ची की गला रेत कर हत्या कर दी। इससे शहर के लोगों में आक्रोश है।

लोग कानून-व्यवस्था पर सवाल उठा रहे हैं कि पुलिस को सूचना देने के बाद भी बच्ची बच नहीं सकी। ये कैसी व्यवस्था है। इस घटना ने शहर के हर माता-पिता को फिक्रमंद कर दिया है। इस घटना से साफ है कि लौहनगरी में भी बच्चियां महफूज नहीं हैं। यहां भी हर साल दर्जनों बच्चियां दरिंदगी का शिकार होती रही हैं। लेकिन, अब तक इन मासूमों की हिफाजत के लिए पुलिस की तरफ से कोई पहल नहीं की गई। कई मामलों में अब तक इंसाफ नहीं मिला। जुल्म की इंतहा करने वालों तक कानून के हाथ नहीं पहुंच सके। 

सलाखों से बाहर हैं सहारा सिटी की नाबालिग के दुष्कर्मी 
सहारा सिटी की एक नाबालिग के साथ हैवानियत के मामले ने शहर वासियों के दिल को झकझोर दिया था। 18 जनवरी 2018 को मानगो थाने में इस मामले की रिपोर्ट दर्ज कराई गई थी। इस मामले की कई पुलिस अधिकारियों ने जांच की। पीडि़ता ने शासन के हर स्तर तक दौड़-भाग की लेकिन, इस घटना के असली गुनहगार अब भी सलाखों के पीछे नहीं पहुंचे। 
पुलिस अधिकारियों पर भी शक की सूई 
इस मामले में कुछ सफेदपोश नेताओं समेत पुलिस अधिकारियों तक का नाम आया। इंस्पेक्टर इमदाद अंसारी और डीएसपी अजय केरकेट्टा भी आरोपितों की सूची में हैं। लेकिन, सरकार ने भी मामले की जांच सीआइडी को सौंप कर अपने कर्तव्य की इतिश्री कर ली। जबकि, नाबालिग हर जांच अधिकारी के सामने चीख-चीख कर अस्मत लूटने वालों के बारे में बताती रही। नाबालिग ने छह कारोबारियों, चार बिल्डरों और तीन नेताओं के नाम लिए। मगर, मामला दबा दिया गया। जनता अब तक नहीं जान पाई कि नाबालिग पर जुल्म करने वाले ये दरिंदे कौन हैं। 

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Rakesh Ranjan

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

जागरण अब टेलीग्राम पर उपलब्ध

Jagran.com को अब टेलीग्राम पर फॉलो करें और देश-दुनिया की घटनाएं real time में जानें।