जमशेदपुर (जागरण संवाददाता)। पांचवे इंडिया इंटरनेशनल साइंस फेस्टिवल (आइआइएसएफ-2019) का आयोजन कोलकाता के विश्व बंग कन्वेंशन सेंटर और साइंस सिटी में आगामी पांच से आठ नवंबर तक किया जाएगा। 

विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी व अर्थ साइंस मंत्रालय की ओर से विज्ञान भारती के साथ मिलकर होने जा रहे इस आयोजन को लेकर राष्ट्रीय धातुकर्म प्रयोगशाला (एनएमएल) जमशेदपुर में बुधवार को एक आउटरीच कार्यक्रम का आयोजन किया गया। केंद्रीय विज्ञान एवं तकनीकी मंत्री डॉ. हर्षवर्धन के निर्देश पर आयोजित इस कार्यक्रम में एक तकनीकी प्रदर्शनी लगाई गई जिसका थीम टेक्नोलोजी, प्रोडक्ट एंड टेक्नोलोजिकल सर्विसेज था। वहीं माइनिंग, मिनरल्स एंड मैटीरियल्स, इंजीनियरिंग एंड इंफ्रास्ट्रक्चर, इकोलोजी एंड एन्वायरमेंट शीर्षक के तहत राष्ट्र निर्माण में एनएमएल के तकनीकी योगदान को दर्शाया गया।

इस आउटरीच प्रोग्राम का मुख्य उद्देश्य एनएमएल की उपलब्धियों, तकनीकी विकास, उत्पाद व तकनीकी सेवाओं के बारे में शिक्षण संस्थानों, औद्योगिक इकाइयों व आम लोगों को व्यापक जानकारी देना था।

कार्यक्रम के प्रारंभ में एनएमएल के निदेशक डॉ. इंद्रनील चट्टोराज ने मुख्य अतिथि सीके असनानी का स्वागत किया। सीके असनानी यूरेनियम कारपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड जादूगोड़ा के प्रबंध निदेशक हैं। डॉ. चट्टोराज ने स्थानीय स्कूल-कॉलेजों से आए छात्रों, सीएसआइआर- एनएमएल के वैज्ञानिकों का भी स्वागत किया। अपने संबोधन में उन्होंने आइआइएसएफ- 2019 के विचार व उद्देश्यों के बारे में भी जानकारी दी। उन्होंने कहा कि आइआइएसएफ- 2019 जैसे आयोजन खासतौर से छात्रों व शोधार्थियों को श्रेष्ठ मंच प्रदान करते हैं। 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस