पोटका पूवी सिंहभूम, जागरण संवाददाता। झारखंड के पूर्वी सिंहभूम के पोटका प्रखंड अंतर्गत शंकरदा पंचायत के शंकरदा गांव में दुर्गा प्रतिमा विसर्जन के दूसरे दिन से ही गांव में डायरिया का प्रकोप बढ़ता जा रहा है। डायरिया की चपेट में आने से कई लोगों की स्थिति जब खराब हुई तो इन्हें तत्काल मर्सी अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां डायरिया से वृद्ध अबला गोप की मौत हो गई, वही अभी भी मर्सी अस्पताल में कई मरीजों को भर्ती कराया गया है।

साथ ही बच्चे समेत महिला को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया है। स्थानीय जिला परिषद प्रतिमा रानी मंडल ने स्वास्थ्य विभाग को जल्द से जल्द कैंप लगाकर दवा देने एवं नालों और जलजमाव के स्थानों पर ब्लीचिंग पाउडर का छिड़काव करने की मांग की है। उनका कहना है कि डायरिया पर नियंत्रण जल्दी नहीं कर किया गया तो विकराल रूप ले सकता है। अबला गोप कलीकापुर पंचायत की चेमई जुड़ी की रहने वाली है जो अपने पोती को देखने के लिए शंकरदा आई थी। इस बीच डायरिया की चपेट में आने से मर्सी अस्पताल में मृत्यु हो गई। डायरिया से प्रभावित लोगों में ममता गोप, जयंती गोप, अबला गोप, अनिल भकत, पुष्प गोप, जान्हवी नायेक, भाग्यवती गोप, कुमुदिनी दास (गर्भवती), लिपी दास (4वर्ष) शामिल है।  इसमें भाग्यवती गोप कल से मर्सी अस्पताल में ईलाजरत है  जहां स्थिति गंभीर है। अबला गोप की ईलाज के दरम्यान मर्सी में ही मृत्यु हो गई । 108 एम्बुलेंस के माध्यम से कुमुदिनी दास एवं पुत्री लिपि दास को पोटका सीएचसी भेजा गया, जहां ईलाजरत है।

Edited By: Rakesh Ranjan