जमशेदपुर (जागरण संवाददाता)। झारखंड के जमशेदपुर में खुलने वाला पहला ड्राई पोर्ट तकनीकी समस्‍या की भेंट चढ़ रहा है। पूर्व में तैयार योजना के अनुसार जमशेदपुर के बर्मामाइंस में सितंबर माह में ही ड्राई पोर्ट (इनलैंड कंटेनर डिपोर्ट-आईसीडी) का शुभारंभ होना था।

इस ड्राइपोर्ट के माध्‍यम से प्रतिमाह 2000 कंटेनर सीधे पोर्ट में भेजने की सुविधा प्रदान की जानी थी।  इस ड्राइपोर्ट का संचालन भारत सरकार का उपक्रम कंटेनर कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (कंकोर) की ओर से किया जाना था। विश्वस्त सूत्रों की माने तो कस्टम विभाग द्वारा कंटेनर लोडिंग-अनलोडिंग को ऑनलाइन लिंक नहीं हो पाने के कारण ड्राई पोर्ट खुलने में देरी हो रही है।

कहने का तात्‍पर्य यह कि झारखंड के पहले ड्राइपोर्ट का मामला फिलहाल तकनीकी पेच में उलझता दिख रहा है। एक चर्चा यह भी हो रही थी कि झारखंड में विधानसभा चुनाव की घोषणा के कारण आचार संहिता के कारण मामला फंसेगा और चुनाव बाद ही कुछ होगा। वहीं दूसरी तरफ यह उम्‍मीद बंधाई जा रही है कि केंद्रीय वाणिज्‍य सचिव अनूप बथावन की पहल से इस समस्‍या को दूर कर लिया जाएगा।

व्‍यवसायियों के संगठन एशिया के एक अधिकारी का दावा है कि 14 नवंबर को केंद्रीय सचिव तकनीकि पेचीदगी को कम करने के लिए आ रहे हैं। वे ऑटो कलस्टर में सभी उद्यमियों के साथ बैठक में भाग लेंगे। उक्‍त बैठक में तकनीकी समस्‍या पर चर्चा की जाएगी और मामले को सुलझाने की दिशा में तेजी से काम शुरू कर दिया जाएगा। व्‍यवसायियों को यह उम्‍मीद है कि केंद्रीय वाणिज्‍य सचिव के साथ बैठक के बाद जल्‍द ही ड्राई पोर्ट खुलने का रास्ता साफ हो जाएगा।

 

Posted By: Vikas Srivastava

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप