जमशेदपुर, जासं। टाटा वर्कर्स यूनियन का नाम रजिस्टर बी में दर्ज हो जाने के बाद टाटा स्टील के कर्मचारियों का जनवरी 2020 से लंबित एलटीसी समझौता का मार्ग प्रशस्त हो गया। संभावना है कि इस माह के अंत तक समझौते पर हस्ताक्षर हो जायेगा I

सूत्रों की मानें तो इस बार पिछली बार की वृद्धि से 1000 से 2000 रुपये तक की अधिक वृद्धि हो सकती है I यानी टाटा स्टील कर्मचारियों का एलटीसी बढ़कर 37 हजार से 40 हजार तक हो सकता है I हालांकि, इसबार यूनियन चुनाव में 50 हजार रुपये एलटीसी का मुद्दा भी उठा था I सूत्रों का कहना है कि यूनियन की नई कमेटी के साथ प्रबंधन की कई दौर की वार्ता हो चुकी है I प्रबंधन ने ट्रेन किराये में किसी प्रकार की वृद्धि नहीं होने का हवाला देकर पिछले वर्ष के बराबर यानी 7500 रुपये बढ़ाने को तैयार है I लेकिन माना जा रहा है कि इसमें 1000 से 2000 रुपये की अधिक वृद्धि कर समझाैते को अंतिम रूप दिया जा सकता है I

बनाए गए थे दो स्लैब

टाटा स्टील, ट्यूब डिवीजन व टीजीएस के 14 हजार से ज्यादा कर्मियों का एक जनवरी 2020 से एलटीसी (लीव ट्रैवल कंसेसन) का मुद्दा लटका पड़ा है I यूनियन अध्यक्ष आर रवि प्रसाद के नेतृत्व में आखिरी बार 2016-2019 के लिए हुए एलटीसी समझौता के तहत न्यूनतम 28,500 व अधिकतम 30,500 रुपये कर्मचारियों को प्रति दो वर्ष के खंड में देने पर समझौता हुआ था I पिछली बार ही एनएस ग्रेड का एलटीसी बढ़ाकर ओल्ड ग्रेड के बराबर 20 हज़ार को 28500 तथा 22000 रुपये के स्लैब को बढ़ाकर 30500 रुपये कर दिया गया था I वर्ष 2012-15 सत्र में यूनियन अध्यक्ष पीएन सिंह के कार्यकाल के दौरान एनएस ग्रेड के लिए दो स्लैब बनाये गये थे I

पिछले 20 वर्षों में कब कितना बढ़ा एलटीसी

  • सत्र वर्कर्स सुपरवाइजर यूनियन अध्यक्ष
  • 2000-03 5500 7500 एसके बेंजामिन
  • 2004-07 8000 10000 आरबीबी सिंह
  • 2008-11 14000 16000 रघुनाथ पांडेय
  • 2012-15 21000 23000 पीएन सिंह
  • 2016-19 28500 30500 आर रवि प्रसाद
  •  

Edited By: Rakesh Ranjan