जमशेदपुर : शरीर को स्वस्थ रखने के लिए लोग तमाम कोशिश करते हैं लेकिन एक महत्वपूर्ण चीज पर ध्यान नहीं देते हैं। जी हां, हर ब्लड ग्रुप के अनुसार उसका अलग-अलग डायट तैयार होता है।

एमजीएम मेडिकल कॉलेज व अस्पताल की डायटीशियन अनु सिन्हा बताती हैं कि इसे अपनाने वाले लोगों में बीमारी होने का खतरा काफी कम रहता है। साथ ही शरीर हमेशा तंदुरुस्त और हेल्दी रहेगा।

दरअसल, हर ब्लड ग्रुप का अपना एक अलग स्वभाव और प्रकृति होती है इसलिए हम जिस प्रकार के आहार का सेवन करते हैं उसका सीधा संबंध हमारे ब्लड ग्रुप से भी होता है।

ब्लड ग्रुप चार प्रकार के होते हैं। ऐसे में आप अपने ब्लड ग्रुप के अनुसार डाइट तय कर सकते हैं। एक रिपोर्ट के अनुसार, सभी तरह के व्यंजनों में प्रोटीन होता है, जो हर तरह के भोजन में पाया जाता है। उनके अनुसार अलग-अलग ब्लड ग्रुप के लोगों का खून भोजन वाले इन प्रोटीन के प्रति अलग तरह से रिएक्ट करता है, जिसका सीधा असर आपकी सेहत पर पड़ता है।

ओ ब्लड ग्रुप वाले का डाइट : जिन लोगों का ब्लड ग्रुप ओ होता है उन लोगों का डाइट प्लान इस तरह से होना चाहिए। इन लोगों को अपनी डाइट में प्रोटीन की अधिक मात्रा शामिल करना चाहिए। ऐसे में इस ब्लड ग्रुप वाले लोग अपने भोजन में मीट, मछली, हरी सब्जियां और फल को शामिल कर सकते हैं। लेकिन, अनाज, बीन्स और फलों का सेवन संतुलित मात्रा में होनी चाहिए।

ए ब्लड ग्रुप वाले का डाइट : ए ब्लड ग्रुप वाले का डाइट शकाहारी होना चाहिए। ऐसे लोग अपने डाइट में हरी सब्जियां, सीफूड, फल, अनाज, बीन्स और फल को शामिल कर सकते हैं। इससे आपकी सेहत अच्छा रहेगा।

बी ब्लड ग्रुप : बी ब्लड ग्रुप वाले के भोजन में कोई रोक-टोक नहीं है। मांसाहार व शाकाहार दोनों का सेवन कर सकते हैं। लेकिन दोनों संतुलित मात्रा में होनी चाहिए। संतुलित भोजन के साथ नियमित व्यायाम इनके लिए जरूरी होता है।

एबी ब्लड ग्रुप : एबी ब्लड ग्रुप वाले को भी खाना में विशेष ध्यान देने की जरूरत होती है। जिस तरह से ए और बी ब्लड ग्रुप का डाइट होता है ठीक उसी तरह से इस ब्लड ग्रुप का भी होता है। दरअसल, एबी ब्लड टाइप वालों के पेट में खाना पचाने वाले हाइड्रोक्लोरिक अम्ल की कमी होती है। इस कारण से उन्हें चिकन और रेड मीट खाने से बचने की सलाह दी जाती है।

Edited By: Jitendra Singh