जमशेदपुर, जितेंद्र सिंह।  कभी ये अमिताभ चौधरी के सिपहसलार माने जाते थे, लेकिन समय का पहिया ऐसा घूमा कि आज जानी दुश्मन बन चुके हैं। 22 सितंबर को रांची में होने वाले चुनाव के पहले झारखंड राज्य क्रिकेट एसोसिएशन (जेएससीए) सुप्रीमो का किला दरकता दिख रहा है। कभी अमिताभ चौधरी के आंख के तारे रहे आज उन्हीं के खिलाफ ताल ठोक रहे हैं।

वैसे तो अमिताभ गुट के आंखों की किरकरी बन चुके वर्तमान अध्यक्ष कुलदीप सिंह का जाना तय माना जा रहा था, लेकिन सत्ता पक्ष ने जमशेदपुर के जाने-माने कैंसर रोग विशेषज्ञ डॉ. नफीस अख्तर को मैदान में उतारकर बड़ा दांव खेला है। लेकिन विरोधी पक्ष भी पूर्व राज्यसभा सदस्य अजय मारू को उतारकर चुनावी मैच को रोमांचक बनाने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ा है। आज जो विरोधी टीम की ओर से चुनावी मैदान में खम ठोक रहे हैं, कभी वह अमिताभ के किला को मजबूत करने में जी जान लगा दिया करते थे।

अमिताभ गुट से ये मैदान में

अमिताभ गुट की ओर से रांची के संजय सहाय व देवाशीष चक्रवर्ती मैदान में हैं। उन्हें विरोधी पक्ष की ओर से वी जानकी राम चुनौती दे रहे हैं। जानकी राम कई बार चयन समिति में रह चुके हैं और अंडर-19 टीम की चयन समिति में योगदान दे चुके हैं। अध्यक्ष के एक पद पर अमिताभ गुट के अजयनाथ शाहदेव को कमेटी मेंबर रह चुके रांची के सुनील साहू चुनौती दे रहे हैं। संयुक्त सचिव पद पर राजीव बदान व पीएन सिंह हैं। कूलिंग ऑफ के कारण पीएन सिंह का नामांकन रद होना तय है। उनके खिलाफ जमशेदपुर के दिवाकर सिंह ताल ठोक रहे हैं। कोषाध्यक्ष पद पर अमिताभ गुट के पीएस सेन को रणधीर बिस्वास चुनौती दे रहे हैं। अमिताभ व पूर्व सचिव राजेश वर्मा के करीबी माने जाने वाले रणधीर बिस्वास कभी जेएससीए के सहायक सचिव हुआ करते थे।

कमेटी मेंबर के तीन उम्मीदवार माने जाते थे विश्वासपात्र

कमेटी मेंबर के पांच पद के लिए विरोधी पक्ष की ओर से जिन उम्मीदवारों ने नामांकन भरा है, उसमें तीन ऐसे उम्मीदवार हैं, जो कभी अमिताभ खेमा के विश्वासपात्र कहे जाते थे। इसमें जमशेदपुर के उल्हास साने, पीके पॉल व रांची के शब्बीर हुसैन का नाम शामिल है। इसके अलावा रांची के राजेश कुमार शर्मा व संजय कुमार मैदान में है। सत्ता पक्ष की ओर से राजकुमार सिंह, श्रवण जाजोदिया, सुनील कुमार सिंह व पी दास उन्हें चुनौती दे रहे हैं। स्कूल व क्लब की एक सीट के लिए शंकर को विरोधी पक्ष के ललन सिंह व नंदू पटेल चुनौती दे रहे हैं। ललन की उम्मीदवारी रद होने के आसार

कूलिंग ऑफ के दायरे में आ रहे ललन सिंह की उम्मीदवारी रद होने के आसार हैं। विरोधी पक्ष ने अब तक जिला कोटे के कमेटी मेंबर के पद के लिए किसी को नहीं उतारा है। सत्ता पक्ष की ओर से सरायकेला के प्रवीर कुमार, चतरा के गोपाल सहाय, गढ़वा के संजय सिंह व साहेबगंज के सीपी सिन्हा मैदान में खड़े हैं।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप