जमशेदपुर, जासं। निजीकरण, पुरानी पेंशन योजना सहित अन्य मांगों को लेकर बुधवार को डाक विभाग के कर्मचारियों ने एक दिवसीय हड़ताल किया। नेशनल फेडरेशन आफ पोस्टल एंप्लाइज एसोसिएशन से जुड़े लगभग सभी कर्मचारी हड़ताल में शामिल हुए। इससे लगभग हर डाकघर में कामकाज प्रभावित होते दिखा। बिष्टुपुर प्रधान डाकघर का पासपोर्ट सेंटर भी बंद रहा। इससे लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा। सबसे अधिक परेशान अपने भाई को डाक के माध्यम से राखी भेजने वाली बहन तथा हर घर तिरंगा अभियान के लिए तिरंगा खरीदने आने वाले लोगों को हुई। कई लोगों को वापस लौटकर जाना भी पड़ा। हालांकि, हड़ताल को देखते हुए डाक विभाग भी विशेष तैयारी कर रखा था। कोल्हान के वरीय डाक अधीक्षक गुड़िया कुमारी ने बताया कि डाक कर्मियों के कुल चार एसोसिएशन हैं। हड़ताल पर सिर्फ एक एसोसिएशन के सदस्य हैं। ऐसे में हड़ताल से ज्यादा परेशानी नहीं हुई। इधर, डाकघर में राखी भारी संख्या में आई है। इसे देखते हुए देर रात तक डाक कर्मी डाकघर में मौजूद रहे और इस दौरान राखी को अलग-अलग कर सूचीबद्ध करते रहें। ताकि सभी राखी समय पर पहुंच सकें। गुरुवार को भी डाकघर खुला रहेगा।

डाक कर्मियों ने किया प्रदर्शन

हड़ताल पर गए डाक कर्मियों ने बिष्टुपुर स्थित प्रधान डाकघर के सामने प्रदर्शन किया। एसोसिएशन के चंडीचरण साधु ने कहा कि नई पेंशन योजना के स्थान पर पुरानी पेंशन योजना लाने, डाक विभाग के निजीकरण की ओर बढ़ते कदम को वापस लेने सहित अन्य मांगों को लेकर हड़ताल किया गया है। केंद्रीय नेतृत्व के आह्वान पर किए गए हड़ताल के मद्देनजर सभी डाकघर में कामकाज ठप रहा।

डाकघर में तिरंगा खत्म

डाकघर में तिरंगा झंडा खत्म हो गया है। गुरुवार को दर्जनों लोग झंडा लेने पहुंचे थे लेकिन उन्हें निराशा लौटना पड़ा। वरीय डाक अधीक्षक गुड़िया कुमारी ने बताया कि अमृत महोत्सव को लेकर लोगों में गजब का उत्साह है। झंडा आते ही हाथों-हाथ बिक जा रहा है। अभी तक 42 हजार झंडा की बिक्री हो चुकी है। 40 हजार झंडा और भी मांगी गई है। उम्मीद है कि जल्द ही झंडा डारघरों में पहुंच जाएगा।

Edited By: Madhukar Kumar