जमशेदपुर : कोरोना की चौथी लहर से पूर्व जिला स्वास्थ्य विभाग सुस्त पड़ा हुआ है। न तो कोरोना मरीजों की निगरानी हो रही है और न ही जांच बढ़ाई जा रही है। इधर, मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है। नौ दिन में 39 नए मरीज मिले हैं। जबकि एक मरीज की मौत भी हो गई है। वहीं, कोरोना को नियंत्रित करने वाले जिला सर्विलांस विभाग में इक्का-दुक्का कर्मचारी ही बचे हैं, जो सामान्य दिनों की तरह कार्य कर रहे हैं। कोरोना की पहली, दूसरी व तीसरी लहर में विशेष नियंत्रण कक्ष बनाए गए थे। यहां पर करीब 50 से अधिक कर्मचारियों की नियुक्ति की गई थी। ये सभी कर्मचारी पल-पल की रिपोर्ट मरीजों से ले रहे थे। उनकी कड़ी निगरानी हो रही थी। साथ ही शहरभर में आयोजित जांच शिविर में भी सहयोग कर रहे थे। लेकिन, अब यह सारा सिस्टम ध्वस्त हो चुका है। फिलहाल शहर में साढ़े तीन गुना की रफ्तार से मरीजों की संख्या बढ़ रही है।

खुलेआम घूम रहे कोरोना मरीज

अभी कोरोना संक्रमित मरीज खुलेआम घूम रहे हैं। इससे संक्रमण फैलने की संभावना बढ़ गई है। दरअसल, संक्रमित मरीजों को अस्पताल में भर्ती न करते हुए उन्हें होम क्वारंटाइन में भेजा जा रहा है। ऐसे में ये मरीज होम क्वारंटाइन के दिशा-निर्देशों का पालन न करते हुए खुलेआम घूम रहे हैं। इससे परिवार व समाज में संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ गया है।

अस्पताल खाली, 30 मरीजों का इलाज घर पर ही चल रहा

कोरोना मरीजों के लिए बनाए गए लगभग सभी कोविड अस्पताल खाली हैं। चिकित्सकों का कहना है कि मरीजों की स्थिति गंभीर नहीं होने से उन्हें घर भेज दिया जाता है।फिलहाल जितने भी मरीज मिल रहे हैं, उनमें सामान्य सर्दी-खांसी जैसे लक्षण ही मिल रहे हैं। समझ नहीं आ रहे किसे फ्लू है और किसे कोरोना। इसे देखते हुए सर्दी-खांसी के मरीजों को भी कोरोना जांच करने का निर्देश दिया गया है। वर्तमान में 30 एक्टिव केस है, जिनका इलाज घरों पर ही चल रहा है।

जब चरम पर थी लहर तो 15 हजार होती थी जांच

कोरोना जब चरम पर थी तो रोजाना लगभग 15 हजार लोगों की जांच होती थी। इस दौरान डेढ़ से दो हजार नए मरीज मिलते थे। अब एक बार फिर से मरीजों की संख्या बढ़ने लगी है। ऐसे में जांच में तेजी लानी होगी। मणिपाल मेडिकल कालेज के प्रोफेसर डा. एसी अखौरी ने कहा कि जांच की संख्या बढ़ने से ही मरीजों की सही आंकड़ा सामने आएगी। जांच दर बढ़ेगी तो मरीजों की संख्या भी बढ़ेगी। अब हमें अधिक सतर्क होने की जरूरत है। वर्तमान में 100-150 लोगों की जांच हो रही है। इसे बढ़ाकर कम से कम पांच हजार करनी होगी।

बिष्टुपुर व साकची बन रहा हाट स्पाट

15 जून के बाद से जमशेदपुर में लगातार मरीज बढ़ रहे हैं। आंकड़ों पर गौर करें तो अभी तक सबसे अधिक बिष्टुपुर 12 व साकची में नौ मरीज मिले हैं। जिला सर्विलांस विभाग के अनुसार, इसबार कोरोना अपना ठिकाना बदल रहा है। इसे देखते हुए विभाग ने उस क्षेत्र में निगरानी बढ़ दी है। 12 दिन में कुल 39 नए मरीज सामने आए हैं। वहीं पहली व दूसरी लहर में सबसे अधिक सोनारी व कदमा क्षेत्र प्रभावित था। जबकि तीसरी लहर में टेल्को, सिदगोड़ा क्षेत्र प्रभावित था।

15 से 25 जून तक किस क्षेत्र में कितने मिले मरीज

क्षेत्र : मरीज

बिरसानगर : 01

कदमा : 04

गोलमुरी : 01

टेल्को : 01

बारीडीह : 01

बिष्टुपुर : 12

साकची : 09

सोनारी : 01

मानगो : 05

टेल्को : 02

एग्रिको : 01

बिरसानगर : 01

गोलमुरी : 01

-- -- -- -- -- -- -- -- -- -- --

कुल : 39

कोरोना मरीजों की बढ़ती संख्या चिंताजनक है। सर्दी-खांसी को हल्के में नहीं लें। तीन दिन से अधिक सर्दी-खांसी हो तो उसकी जांच कराएं। होम क्वारंटाइन में रहने वाले मरीज नियम का सख्ती से पालन करें।

- डा. साहिर पाल, जिला सर्विलांस पदाधिकारी।

Edited By: Sanam Singh