मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

जमशेदपुर, जासं।  पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम के लिए परेशानी का सबब बनी आइएनएक्स मीडिया की संस्थापक इंद्राणी मुखर्जी का जमशेदपुर से भी रिश्ता है। उन्होंने जमशेदपुर में केबल का कारोबार करने वाले संजीव खन्ना के साथ शादी रचाई थी। संजय खन्ना का परिवार गोलमुरी के रिफ्यूजी कॉलोनी में रहता था। संजय खन्ना का आदित्यपुर औद्योगिक क्षेत्र में केमिकल प्लांट भी था। बताते हैं कि इंद्राणी से शादी करने के बाद संजीव उन्हें लेकर जमशेदपुर आए थे। 1998 के बाद से उनका यहां आना नहीं हुआ। संजीव को जानने वाले बताते हैं कि वह संयमित जबकि इंद्राणी चंचल स्वभाव की थीं।

टाटा मोटर्स ने 1990 में संजीव खन्ना की कंपनी कोंडिक्स प्राइवेट लिमिटेड को टेल्को क्षेत्र में केबल नेटवर्क प्रसारण का काम सौंपा था। कंपनी की ओर से केबल संचालन के लिए संजीव को एक मकान दिया गया था। उस मकान की छत पर संजीव की ओर से केबल नेटवर्क की छतरी लगाई गई थी। केबल कनेक्शन के एवज में हर महीने उनकी कंपनी को टाटा मोटर्स की ओर से सीधे भुगतान किया जाता था। 1995 में कंपनी के कंट्रोल रूम में आग लग गई थी। इसको लेकर हंगामा भी हुआ था। इसके बाद टाटा मोटर्स ने उनसे काम वापस ले लिया था। जिस मकान में संजीव खन्ना ने केबल प्रसारण के लिए छतरी लगाई गई थी, वह मकान अभी भी यथावत है।

कोलकाता में ही रह रहे संजीव

संजीव की कंपनी में काम करने वाले टेल्को निवासी रमेश सिंह का कहना है कि संजीव हफ्ते में एक-दो दिन के लिए ही कोलकाता से जमशेदपुर आया करते थे। उन्होंने अपने रिश्तेदार जीएम कपूर व राजीव बेरी के साथ आदित्यपुर इंडस्टियल एरिया में एक प्लांट लगाया था। यहां केमिकल बनाने का काम होता था और इसकी आपूर्ति टाटा स्टील में होती थी। 1998 के बाद यह प्लांट बंद हो गया। इसके बाद से वह अपने रिश्तेदारों के साथ कोलकाता में ही रह रहे हैं।

इंद्राणी ने संजीव को दे दिया था तलाक

संजीव और इंद्राणी से दोनों की एक बेटी विधि है। लोग बताते हैं कि बाद में इंद्राणी ने संजीव खन्ना को तलाक दे दिया था और स्टार इंडिया के सीईओ पीटर मुखर्जी से शादी कर ली थी।

बंटवारे के बाद जमशेदपुर आया था संजीव का परिवार

संजीव खन्ना का परिवार बंटवारे के समय पाकिस्तान से जमशेदपुर आया था। 1949 में ये परिवार यहां गोलमुरी की रिफ्यूजी कॉलोनी में बस गया। 1992 में पूरा परिवार यहां घर बार बेच कर कोलकाता चला गया।

 

Posted By: Alok Shahi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप